Satya Darshan

कश्मीर में सब डिविजनल मैजिस्ट्रेट की सड़क पर घसीटकर पिटाई, सेना पर आरोप

अनंतनाग जिले के दूरू के एसडीएम गुलाम रसूल वानी की सड़क पर घसीटकर पिटाई, शिकायत दर्ज।

श्रीनगर | अप्रैल 17, 2019

जम्मू-कश्मीर में चुनावी ड्यूटी पर तैनात एक अधिकारी की पिटाई का मामला सामने आया है. खबर है कि सब डिविजनल मजिस्ट्रेट को सड़क पर करीब 20 मीटर तक घसीटा गया.

बंदूक की नोंक पर उन्हें धमकाया गया, उनके साथ मारपीट भी की गई. और इस मारपीट का आरोप वहां तैनात सेना पर लगा है. घटना अनंतनाग जिले के दलवाच इलाके में नैशनल हाइवे के श्रीनगर-काजीगुंड हिस्से में मंगलवार को हुई.

गुलाम रसूल वानी अनंतनाग जिले के दूरू के एसडीएम हैं. और वो लोकसभा चुनाव में साउथ कश्मीर के लिए रिटर्निंग ऑफिसर भी हैं.

द इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक, बातचीत में उन्होंने बताया, ‘मैं चुनाव ड्यूटी पर था. मैं वेसू की तरफ जा रहा था क्योंकि जिलाधिकारी वहां इंतजार कर रहे थे…उन्होंने (सेना) हाइवे पर ट्रैफिक रोका था. जब उन्होंने गाड़ी पर ‘एसडीएम’ लिखा देखा, उन्होंने हमें जाने दिया.’

एसडीएम वानी ने बताया, ‘हम तीन चेक पॉइंट पार कर गए. लेकिन चौथे पर एक सैनिक ने हमें रुकने के लिए कहा. हम तुरंत रुक गए. इस बीच कुछ सैन्यकर्मी आए और हमारी गाड़ी पर हमला किया. पहले उन्होंने मेरे ड्राइवर को पीटा और बाद में हम सब की पिटाई की.’

एसडीएम ने घटना की जानकारी देते हुए कहा कि, वारदात के वक्त उनके साथ चार अन्य स्टाफ के सदस्य भी मौजूद थे. उन्होंने बताया, ‘उन्होंने मेरा कॉलर पकड़ा और मुझे सड़क पर 20 मीटर तक घसीटा.

उन्होंने मेरे ऊपर अपनी बंदूकें तान दीं, मेरा मोबाइल फोन छीन लिया और उसे तोड़ दिया.’ साथ ही उनके ड्राइवर का फोन भी तोड़ दिया. अनंतनाग जिले के डिप्टी कश्मिनर की दखल के बाद ही उन्हें वहां से जाने दिया गया.

सेना पर आरोप है कि उन्होंने गाड़ी में रखी चुनाव सामग्री भी नष्ट कर दी. एसडीएम ने मामले की शिकायत डिप्टी कमिश्नर और एसएसपी कुलगाम के पास दर्ज की है. वानी ने मांग की है कि इस मामले में एफआईआर दर्ज की जाए.’

वहीं इस बारे में जब रक्षा प्रवक्ता राजेश कालिया से बात की गई तो उन्होंने बताया कि घटना की डिटेल्स की पुष्टि की जा रही है. वहीं, कुलगाम के एसपी गुरिंदरपाल सिंह ने इस मामले में एफआईआर दर्ज होने की पुष्टि की है.

वहीं पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती और पूर्व नौकरशाह एवं जम्मू-कश्मीर पीपुल्स मूवमेंट प्रमुख शाह फैसल ने सैन्य कर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है. मुफ्ती ने घेराबंदी की भावना पैदा करने के लिए प्राधिकारियों पर हमला बोला. उन्होंने घटना में शामिल जवानों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की. 

महबूबा ने ट्वीट किया, 'राज्य में सेना द्वारा नागरिकों की पिटाई करना कोई नई बात नहीं है. लेकिन सिविल अधिकारियों की मारपीट नया है। घाटी और उसके लोगों को एक मूक मौत के लिए चुना जा रहा है. कब तक तुम अपनी ही भूमि में उन पर अत्याचार करते रहोगे? क्या इसीलिए पाकिस्तान पर हमने भारत को चुना?'

View More

Search

Search by Date

जनमत

वाराणसी से पीएम मोदी लोस चुनाव 2019 जीतेंगे?

Navigation

Follow us

Mailing list

Copyright 2018. All right reserved