Satya Darshan

बांड्स के जरिए 10 लाख व एक करोड़ रु. मूल्य का चंदा पार्टियों को मिला : RTI से मिली जानकारी

नयी दिल्ली | अप्रैल 16, 2019

चंद्रशेखर गौड़ के अनुसार लगभग दस महीनों में डोनर्स ने राजनीतिक दलों के लिए कुल 1407.09 करोड़ के इलेक्टोरल बांड्स खरीदेे.

राजनीतिक दलों को इलेक्टोरल बांड के जरिये  99.80 प्रतिशत चंदा 10 लाख और एक करोड़ रुपये मूल्य का मिला. यह चंदा मार्च 2018 से जनवरी 2019 के बीच मिला. यह मध्य प्रदेश के नीमच निवासी सामाजिक कार्यकर्ता चंद्रशेखर गौड़ की आरटीआई से सामने आया है. 

चंद्रशेखर गौड़ के अनुसार लगभग दस महीनों में डोनर्स ने राजनीतिक दलों के लिए कुल 1407.09 करोड़ के इलेक्टोरल बांड्स खरीदे, जिनमें से कुल 1403.90 करोड़ के बांड्स सिर्फ 10 लाख और एक करोड़ रुपये मूल्य के थे.

चंद्रशेखर गौड़ ने एनडीटीवी को जो बताया,  उसके अनुसार एसबीआई से जितनी जानकारी मांगी थी, करीब-करीब सारी जानकारी एसबीआई ने आरटीआई में दी है.  हालांकि जानकारी नहीं दी गयी  कि कितने राजनितिक दलों ने इलेक्टोरल बांड्स को भुनाया है. चंद्रशेखर गौड़ के अनुसार  डोनर्स ने 10 लाख के कुल 1,459 इलेक्टोरल बांड्स, एक करोड़ के 1,258 बांड्स, एक लाख के 318 बांड्स, दस हज़ार के 12 बांड्स और एक हज़ार के कुल 24 बांड्स खरीदे.

चुनावी बॉन्ड से मिले चंदे की जानकारी सील कवर में चुनाव आयोग को देने का आदेश

बता दें कि इलेक्टोरल बॉन्ड को लेकर तीन दिन पहले ही  SC ने अहम फैसला सुनाया था.  SC ने इस मामले में अंतरिम आदेश जारी करते हुए कहा था कि चुनावी बॉन्ड पर रोक नहीं लगेगी, लेकिन ऐसे सभी दल, जिनको चुनावी बॉन्ड (Electoral Bond) के जरिए चंदा मिला है वो सील कवर में चुनाव आयोग को ब्योरा देंगे.

सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि सभी राजनीतिक दल चुनावी बॉन्ड के जरिये मिली रकम की जानकारी सील कवर में चुनाव आयोग के साथ साझा करें. कोर्ट ने जानकारी साझा करने के लिए 30 मई की समय-सीमा निर्धारित की है और कहा है कि पार्टियां सभी दानदाता का ब्योरा सौंपे.

चुनाव आयोग इसे सेफ कस्टडी में रखेगा. बताया गया कि सुप्रीम कोर्ट मामले की विस्तृत सुनवाई की तारीख तय करेगा.  जान लें  कि केंद्र सरकार ने कोर्ट से कहा था कि वह चुनाव प्रक्रिया के दौरान चुनावी बॉन्ड के मुद्दे पर आदेश पारित न करे.

चुनावों में राजनीतिक दलों के चंदा जुटाने की प्रक्रिया को पारदर्शी बनाने के उद्देश्य से चुनावी बॉन्ड घोषणा की थी. चुनावी बॉन्ड  एक ऐसा बॉन्ड है जिसमें एक करेंसी नोट लिखा रहता है, जिसमें उसकी वैल्यू होती है. ये बॉन्ड पैसा दान करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है. इस बॉन्ड के जरिए आम आदमी, राजनीतिक पार्टी, व्यक्ति या किसी संस्था को पैसे दान कर सकता है. इसकी न्यूनतम कीमत एक हजार रुपए,  अधिकतम एक करोड़ रुपए होती है. बता दें कि चुनावी बॉन्ड 1 हजार, 10 हजार, 1 लाख, 10 लाख और 1 करोड़ रुपये के मूल्य में उपलब्ध कराये गये हैं.

 

View More

Search

Search by Date

जनमत

वाराणसी से पीएम मोदी लोस चुनाव 2019 जीतेंगे?

Navigation

Follow us

Mailing list

Copyright 2018. All right reserved