Satya Darshan

फेसबुक लाइव के जरिए लाखों काशीवासियों ने विभिन्न मुद्दों पर अजय राय से की दो टूक बात

वाराणसी | अप्रैल 10, 2019

वैश्विक धरातल पर अपनी आवाज को विश्व के कोने - कोने में पहुंचाने में सोशल मीडिया का अपना एक विशिष्ट महत्व है। सोशल मीडिया ने आज हर व्यक्ति को खुद को उद्घाटित करने में एक महत्वपूर्ण योगदान दिया है। सार्वजनिक स्तर पर सोशल मीडिया के बढ़ते वर्चस्व ने आज की बदली राजनीति को एक नई पहचान दिलाई है। 

आज का दिन वाराणसी के लिए एक विशिष्ट है। आज सोशल नेटवर्किंग की अत्यन्त महत्वपूर्ण साइट फेसबुक की तरफ से सायं सात बजे से आठ बजे तक के कुल एक घण्टे के लाइव प्रोग्राम का सीधा प्रसारण किया गया। सोशल नेटवर्किंग साइट के आज के इस ऐतिहासिक लाइव कार्यक्रम में पिछले पच्चीस वर्षों से विधायक एवं मंत्री रहे पूर्व विधायक अजय राय ने वाराणसी की जनता से सीधे जुड़कर उनके हर तरह के प्रश्नों का जवाब दिया। अपने बेहद लोकप्रिय विधायक को अपने बीच देखकर हर फेसबुक यूजर ने उनसे अपने विभिन्न प्रश्नों जैसे - वाराणसी को लेकर उनकी राय, लोकसभा चुनाव को लेकर प्रधानमंत्री के पिछले वायदे और वर्तमान के उनके वायदे को लेकर प्रश्न, प्रधानमंत्री की गिरती भाषा से जुड़े प्रश्न, युवाओं को राजनीति में आने को लेकर प्रश्न, वाराणसी को लेकर भाजपा और प्रधानमंत्री मोदी के वायदे से जुड़े प्रश्न, युवाओं के रोजगार से जुड़े प्रश्न, बनारस में बढ़ती आपराधिक घटनाओं को लेकर प्रश्न, बनारस के शिक्षण संस्थानों में आयेदिन हो रही हत्या , धरना प्रदर्शन से जुड़े प्रश्न एवं गंगा को लेकर मोदी जी के वायदे से जुड़े प्रश्नों एवं इसी तरह के अन्य लाखों प्रश्नों को वाराणसी की जनता ने अपने पूर्व विधायक से पूछकर उसपर उनके विचारों को बड़ी उत्सुकता से जानने का प्रयास किया। 

इस कार्यक्रम को लेकर आम जन की उत्सुकता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि मात्र एक घण्टे के इस ऐतिहासिक और अभूतपूर्व कार्यक्रम में लाखों फेसबुक यूजर्स ने सक्रियता के साथ अपनी सहभागिता की। 
                           
पूर्व विधायक अजय राय ने खुद से जुड़े प्रश्नों का बेहतरीन और स्पष्टवादिता के साथ जवाब दिया। अंत मे उन्होंने एक प्रश्न के जवाब में कहा कि - मेरी आस्था बाबा श्री काशी विश्वनाथ में है। मैं बाबा को छोड़कर कहीं नही जाऊंगा। बनारस के साथ मेरा रिश्ता जन्म से मृत्यु तक का है। मुझे यहां की मिट्टी से बेपनाह प्यार है। मैं इसी मिट्टी में जन्मा, पला - बढ़ा, और मुझे खुशी होगी कि मैं इसी मिट्टी में विलयित हो जाऊं। मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तरह न तो गुजरात जाऊंगा और न ही अहमदाबाद। हम अंतिम दम तक बनारस की माटी को सर माथे पर लगाएंगे। यही मेरी अंतिम आस्था और विश्वास है।
                          
आज के इस कार्यक्रम को सोशल नेटवर्किंग साइट फेसबुक की तरफ से पहली बार दिल्ली से बाहर किसी अन्य शहर में संम्पन्न किया गया। यह वाराणसी के लिये तथा यहां की जनता के लिए एक विशेष गर्व का विषय है। आज के इस ऐतिहासिक और अभिनव कार्यक्रम मे फेसबुक के सहयोगी रहे यूथ कांग्रेस के प्रदेश महासचिव राघवेंद्र चौबे।

View More

Search

Search by Date

जनमत

वाराणसी से पीएम मोदी लोस चुनाव 2019 जीतेंगे?

Navigation

Follow us

Mailing list

Copyright 2018. All right reserved