Satya Darshan

30 दिसम्बर: इतिहास मे आज क्या है खास

1922 में आज ही के दिन यूएसएसआर की स्थापना हुई थी। करीब 7 दशकों तक एक बेहद शक्तिशाली कम्युनिस्ट राष्ट्र के रूप सोवियत संघ का अस्तित्व रहा।

रूस की क्रांति के बाद वहां यूएसएसआर यानि 'यूनियन ऑफ सोवियत सोशलिस्ट रिपब्लिक्स' की स्थापना हुई थी। इसमें रूसी संघ, बेलारूस। यूक्रेन और ट्रांसकॉकेशियन फेडरेशन के सदस्य देश शामिल थे। 1936 में ही ट्रांसकॉकेशियन फेडरेशन के देश जॉर्जिया, अजरबाइजान और अर्मीनिया रिपब्लिक में विभाजित हो गए। सोवियत यूनियन के नाम से प्रसिद्ध नया कम्युनिस्ट देश यूएसएसआर, रूसी साम्राज्य का भविष्य था। सोवियत यूनियन दुनिया भर में मार्क्स के साम्यवादी सिद्धांतों पर आधारित पहला राष्ट्र था।

1917 में रूसी क्रांति के दौरान और उसके तुरंत बाद करीब 3 साल तक चले रूसी गृह युद्ध में व्लादिमीर लेनिन के नेतृत्व वाली बोल्शेविक पार्टी ने सोवियत सेनाओं पर नियंत्रण रखा। सोवियत सेना वर्कर्स एंड सोल्जर्स कमेटी का एक ऐसा गठजोड़ थी जिसका मकसद पूर्व रूसी साम्राज्य में एक सोशलिस्ट राज्य की स्थापना करना था।

यूएसएसआर में सरकार का पूरा नियंत्रण कम्युनिस्ट पार्टी और उसके पोलितब्यूरो के हाथों में था। पोलितब्यूरो के अध्यक्ष का पद सबसे शक्तिशाली पद था जो शासन का कार्यभार संभालता था। सभी सोवियत उद्योग धंधों की मिल्कियत और प्रबंधन भी राज्य के हाथों में ही था। कृषि भूमि का बंटवारा राज्य द्वारा संचालित कलेक्टिव फार्म्स के रूप में हुआ था।

1922 में स्थापना के कुछ दशक बाद रूसी आधिपत्य वाला सोवियत यूनियन दुनिया की सबसे शक्तिशाली सत्ता बन कर उभरा। इसमें - रूस, यूक्रेन, जॉर्जिया, बेलोरूसिया, उज्बेकिस्तान, अर्मेनिया, अजरबाइजान, कजाखस्तान, किर्गिस्तान, मॉल्डोवा, तुर्कमेनिस्तान, ताजिकिस्तान, लात्विया, लिथुएनिया और एस्तोनिया - ये 15 देश शामिल हुए। 1991 में क्म्युनिस्ट सरकार के पतन के साथ ही सोवियत यूनियन भी खत्म हुआ।

रूस की क्रांति के बाद वहां यूएसएसआर यानि 'यूनियन ऑफ सोवियत सोशलिस्ट रिपब्लिक्स' की स्थापना हुई थी। इसमें रूसी संघ, बेलारूस। यूक्रेन और ट्रांसकॉकेशियन फेडरेशन के सदस्य देश शामिल थे। 1936 में ही ट्रांसकॉकेशियन फेडरेशन के देश जॉर्जिया, अजरबाइजान और अर्मीनिया रिपब्लिक में विभाजित हो गए।

सोवियत यूनियन के नाम से प्रसिद्ध नया कम्युनिस्ट देश यूएसएसआर, रूसी साम्राज्य का भविष्य था। सोवियत यूनियन दुनिया भर में मार्क्स के साम्यवादी सिद्धांतों पर आधारित पहला राष्ट्र था।

इतिहास में 30 दिसंबर का दिन और अन्य कई घटनाओं के साथ दर्ज है। इनमें एक मजेदार घटना भी शामिल है।

दरअसल 30 दिसंबर 1986 को ब्रिटिश सरकार ने अपने देश की कोयला खदानों में जहरीली गैसे पहचानने के लिए तैनात की गई कनारी चिड़िया को इस काम से हटाने का ऐलान किया और इनकी जगह बिजली से चलने वाले डिटेक्टर लगाए गए।

कोयला खदानों में किसी तरह की दुर्घटना होने पर उनमें बिना रंग और महक की जहरीली गैसें भर जाती हैं, जो इन्सानों के लिए खतरनाक होती हैं। ब्रिटेन में इन गैसों का पता लगाने के लिए पीले पंखों वाली कनारी चिड़िया को कोयला खदानों में तैनात किया जाता था और उनके हावभाव से खदान में गैस की मौजूदगी के खतरे का अंदाजा लगाया जाता था।

देश दुनिया के इतिहास में 30 दिसंबर की तारीख में दर्ज अन्य महत्वपूर्ण घटनाओं का सिलसिलेवार ब्यौरा इस प्रकार है:-

1703 : जापान की राजधानी टोक्यो में आए भूकम्प से 37 हजार लोगों की मौत हुई।

1706 : पुडुचेरी के संस्थापक व भारत में फ्रांसिसी उपनिवेश के पहले गवर्नर जनरल मार्टिन का निधन हुआ।

1803 : ब्रिटेन की इस्ट इंडिया कंपनी ने दिल्ली, आगरा तथा भरूच पर नियंत्रण किया। भारत में दूसरे मराठा युद्ध के पहले चरण में मराठा प्रमुख दौलत राव सिंधिया और ब्रिटिश सरकार के बीच सुरजी अर्जुनगांव संधि पर हस्ताक्षर किए गए।

1865 : ब्रिटिश लेखक रूडयार्ड किपलिंग का भारत के बम्बई अब मुंबई शहर में जन्म हुआ। उन्हें भारत में ब्रिटिश सेनाओं के बारे में लिखी उनकी कहानियों और कविताओं के लिए याद किया जाता है। लघु कथा लेखक, कवि और उपन्यासकार किपलिंग को 1907 में साहित्य के नोबेल से सम्मानित किया गया।    

1906 : ढाका में मुस्लिम नेताओं की तीन दिन की बैठक के बाद ऑल इंडिया मुस्लिम लीग पार्टी के गठन की घोषणा की गई। सर ख़्वाजा सलीमुल्लाह, अमीर अली और सर मियां मुहम्मद शफ़ी को पार्टी के संस्थापकों का दर्जा दिया जाता है।

1935 : इटली के लड़ाकू विमानों के बम हमले में अफ्रीकी देश इथोपिया स्थित स्वीडन की रेड क्रास इकाई ध्वस्त हुई।

1938 : वीके जोरिकिन ने इलेक्ट्रॉनिक टेलीविजन सिस्टम का पेटेंट कराया।

1943 : स्वतंत्रता सेनानी सुभाषचंद्र बोस ने पोर्ट ब्लेयर में भारत की आजादी का झंडा लहराया।

1971 : जाने माने वैज्ञानिक विक्रम साराभाई का त्रिवेन्द्रम में निधन हुआ।

1975 : गोल्फ के महानतम खिलाड़ियों में शुमार टाइगर वुड्स का अमेरिका के केलिफोर्निया में जन्म। उन्होंने पेशेवर और गैर पेशेवर दोनो ही तरह की प्रतियोगिताओं में खुद को इस खेल का निर्विवाद महानायक साबित किया।    

1979 : पश्चिमी अफ्रीकी देश टोगो ने संविधान अंगीकार किया।

1993 : वेटिकन ने इजरायल को मान्यता दी।

1996 : ग्वाटेमाला में गत 36 वर्षों से चला आ रहा गृहयुद्ध समाप्त हो गया।

2006 : इराक के पूर्व राष्ट्रपति सद्दाम हुसैन को मानवता के खिलाफ अपराधों का दोषी ठहराते हुए मौत की सजा दी गई।

2012 : पाकिस्तान के ब्लूचिस्तान में आत्मघाती हमले में 19 लोगों की मौत हुई।

30 दिसम्बर को प्रसिद्ध लोगों का निधन -

1971: विक्रम साराभाई, वैज्ञानिक, भारत

2010: बॉबी फैरेल, नर्तक, रूस

2010: वी बालकृष्ण इरादी, वकील, भारत

2010: के जी कानाबीरान, वकील, भारत

2015: मंगेश केशव पडगांवकर, कवि, भारत

30 दिसम्बर को जन्मे प्रसिद्ध व्यक्ति -

1977: लैला अली, महिला खिलाड़ी, संयुक्त राज्य अमेरिका

1975: टाइगर वुड्स, पुरुष खिलाड़ी, संयुक्त राज्य अमेरिका

View More

Search

Search by Date

जनमत

वाराणसी से पीएम मोदी लोस चुनाव 2019 जीतेंगे?

Navigation

Follow us

Mailing list

Copyright 2018. All right reserved