Satya Darshan

पीएम के संसदीय क्षेत्र वाराणसी मे खुले आम बिक रहा गांजा

वाराणसी | अप्रैल 1, 2019

@कृष्णापंडित

सरकारी भांग की दुकान पर बिकता है खुलेआम गांजा। रोकने के जिम्मेदार बने संरक्षक। पढ़े कृृृष्णा पंडित की एक्सक्लुसिव रिपोर्ट...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र में शायद ही कोई ऐसी सरकारी भांग की दुकान हो जहां खुलेआम रूप से गांजा की बिक्री न होती हो! 

दिन प्रतिदिन भ्रष्टाचारी अपने मनसूबे मे कामयाब हो रहे हैं कई रहनुमा बन इनका संरक्षक बने हुए है यहि नहीं मनोबल इतना बढा है कि शिकायतकर्ता को भी धमकाने से बाज नही आते, वाराणसी के थाना सिगरा स्टेडियम के सामने गुमटी में खुलेयाम सरेराह बिक्री केन्द्र बना हुआ है और स्थानीय पुलिस अपने वसूली करने में योगदान दे रहा है, इसी की शाखा भोजुबीर में भी बेधड़क बेचने का काम कर रहा है !

यही कारण है कि दिन प्रतिदिन नशेड़ीयों की संख्या में इजाफा हो रहा है, बड़े, बुजुर्गो के साथ ही कम उम्र के बच्चे भी सिगरेट में गांजा भरकर पी रहे है ! एक तरफ तो पुलिस प्रशासन अवैध रूप से गांजा की तस्करी करने वालों को पकड़कर येन, केन, प्रकारेण अपना पीठ थपथपाने में लगी है,तो वहीं दूसरी ओर सरकारी भांग की दुकान पर गांजा की बिक्री खुलेआम हो रही है। नाम तो सरकारी भांग की दुकान का है लेकिन यहां बड़ी ही होशियारी से गांजा की बिक्री की जा रही है। 

ऐसा नहीं है कि इसकी जानकारी स्थानीय पुलिस को एवं आबकारी विभाग के कर्मचारियों को नहीं है, लेकिन विश्वस्त सूत्रों की माने तो इन अवैध गांजा की दुकानों से सबको प्रतिमाह मोटी रकम पहुंचाई जाती है। माना तो यह भी जाता है कि इस गांजा तस्करी का सबसे बड़े मास्टर माइंड में से एक प्रमुख बड़ा गांजा तस्कर पहड़िया छेत्र का निवासी........जायसवाल है, जो पर्दे के पीछे से पूरा खेल खेलता है। उसके कई ऐसे गुर्गे हैं जिनके नाम पर कई भांग के ठेके हैं और इन्हीं भांग के ठेकों की आड़ में भांग से अधिक प्रतिदिन गांजा की खपत होती है। 

कुछ स्थानों पर तो थोड़ा बच बचाकर गांजा बेचते हैं लेकिन अधिकांश दुकानों पर खुले रूप से बिना किसी डर,भय के बिना किसी खौफ के दिनभर गांजा की बिक्री होती है । उदाहरण स्वरुप भोजूबीर पंचकोशी मार्ग स्थित शव पड़ाव स्थल के पास हनुमान मंदिर परिसर में सरकारी भांग ठेके के पास, पांडेयपुर स्थित हनुमान मंदिर के ठीक सामने भांग की दुकान के पास, वरुणापुल, शिवपुर समेत शहर में ऐसे तमाम भांग के दुकानदार हैं जिनके आसपास खुलेआम गांजा बिकते हैं। इसकी शिकायत करने पर विभागीय अधिकारियों एवं पुलिस का एक रटा रटाया सा जवाब होता है कि फिलहाल जानकारी नहीं है, जानकारी होती है या कोई सज्जन शिकायत करता है तो जांचकर दोषियों के खिलाफ उचित कार्रवाई की जाएगी। 

ऐसा भी नहीं है कि जिले के वरिष्ठ आलाधिकारियों के आने जाने का मार्ग वह नही है और उनकी निगाह न पड़ती हो ? लेकिन आखिर ऐसा क्या और कौन सा कारण है कि जिम्मेदार अधिकारी भी इन अवैध दुकानों को देखकर भी अनदेखी करते रहते हैं, यह विचारणीय प्रश्न है। मजेदार बात तो यह है की कुछ दुकानदारों ने नाम नही छापने की शर्त पर यह भी बताया की हमारे ग्राहकों में पुलिसवाले, पत्रकार, राजनेताओं की संख्या भी कुछ कम नहीं है। आखिर क्या कारण है कि पुलिस के नाक के नीचे खुलेआम गांजा बिक रहा है और पुलिस है कि कुंभकरणी नींद से जागने का नाम नहीं ले रही है। आखिर पुलिस जागे भी तो क्यों ? 

सूत्रों की माने तो कारण स्पष्ट है की इन अवैध गांजा व्यवसायियों से पुलिस चौकियों पर थानों पर और आबकारी विभाग के कर्मचारियों को प्रतिमाह समय से मोटी रकम पहुंचा दी जाती है। हाल के दिनों में कुछ गांजा बेचने वाले युवकों को पकड़ कर पुलिस ने अपना कोरम जरूर पूरा किया लेकिन वही युवक जेल से छूटने के बाद पुनः उसी धंधे में लिप्त है और खुलेआम गांजा बेच रहे हैं। 

इसकी शिकायत जब स्थानीय लोग पुलिस से करते हैं तो पुलिस उन्हें ही नसीहत देती है कि जब तुम लेने ही नहीं जाओगे तो वह खुद ही बेचना बंद कर देगा। ऐसे में यह बात भी चरितार्थ होती है की "उल्टा चोर कोतवाल को डांटे, मिल बांटकर पैसा बाटे"। 

हाल के दिनों में पुलिस मुठभेड़ में 3 अभियुक्त गांजा तस्कर लोहता थाना छेत्र के अकेलवा से गिरफ्तार हुए थे उनके पास से 2 कुन्तल 30 किलो गांजा बरामद भी हुआ था। इस बरामदगी पर पुलिस ने खूब अपनी पीठ थपथपाई, वही जिले में लगभग हर भांग की दुकान पर खुलेआम गांजा बिक रहा है वह दिखाई नही दिख रहा है, अब देखना यह है कि इन दुकानों पर गांजा बिकने पर प्रतिबंध लगता है या लगातार मोटी रकम पहुँचता रहेगा और धड़ल्ले से अवैध गांजे का धंधा चलता रहेगा !

एक सवाल अनेकानेक जनमानस  के मन में उभरता है कि यदि पुलिस की कोई गठजोड़ न हो तो यह सब कैसे संभव होगा और तो और जिला प्रशासन मौन रहकर अपने शागिर्दो के मनसूबे को कामयाब कर रहा है और स्थानीय जनता वेवश लाचार असहाय व उगादी हौसला के सामने नतमस्तक है।

View More

Search

Search by Date

जनमत

वाराणसी से पीएम मोदी लोस चुनाव 2019 जीतेंगे?

Navigation

Follow us

Mailing list

Copyright 2018. All right reserved