Satya Darshan

आशु वचन : यह जिम्मेदारी आपकी है

आशुतोष तिवारी | मार्च 19, 2019

✍️डियर देशभक्तों 

यह आप के लिए है क्योंकि आप हर दिन सोशल मीडिया और अन्य माध्यमो के जरिये देश तोड़ने वालों के खिलाफ लिखते हैं। लेकिन आप लोगो को देश तोड़ने वाले लोग ट्रोल करते है, गाली देते है, तो आप कमजोर पड़ जाते हैं।

आप कमजोर और निराश मत होइए। वह दिन भर हिन्दू मुस्लिम कर देश तोड़ने का काम करते है , फिर भी कमजोर नही पड़ते। आप तो देश जोड़ने के और सरकार से सवाल करने जैसे बेहतरीन काम मे लगे हैं, आप क्यो हतोत्साहित हों। भारत माता आप के साथ है। भगत सिंह आप की प्रेरणा है, आप नाहक इनसे ट्रोल होते हैं। यदि कोई सेकूलर को 'सिकुलर' कहता है तो बीमार वह है, 'आप' नहीं। देशभक्ति क्या है -सेकूलर होना या सांप्रदायिक होना। 

दरअसल, भक्त बहुत क्यूट लोग होते है। वह देश को तोड़ने वालों के साथ जरूर है, लेकिन उनमे से कई को यह पता नही है। कई को बाकायदा बैठाल कर देश तोड़ना सिखाया गया है। कई फुसलाये और व्हाट्स एप के जरिये गुमराह किये गए है इसलिए उनसे ट्रोल मत होइए। उनके जरूर मजे लीजिये लेकिन एक काम जरूर करिए। मजे -मजे में कोई सीखना चाहे तो उन्हें सिखाइये भी की देशभक्ति पहले है किसी नेता या पार्टी की भक्ति बाद में। 

उनको एनसीईआरटी की किताबें पढ़ाइये। उनको हमारा भरण पोषण करने वाली भारत माता की कोख में गरीब विरोधी सरकार के खिलाफ बोलना सिखाइये। उनको राष्ट्र गान और राष्ट्रगीत याद कराइये। उनसे सुनिए कि देश तोड़ने वाली संस्था ने उन्हें क्या सिखाया है। उन्हें बाय बोलने की बजाय भारत माता की जय कहना सिखाइये।

आप अगर थोड़ा सा भी रिसर्च करे तो जानेंगे कि दंगा फैला कर देश तोड़ने वालों की मुख्य समस्या पढ़ना है। मेरे खुद कुछ ऐसे रिलेटिव हैं जो पढ़ने-लिखने में कभी अच्छे नही रहे, इसलिए अब वह पूरी तरह भक्त हो चुके है। अगर आप उन्हें गहराई से पढ़ने के लिए प्रेरित करेंगे तो वह हमारी आप की तरह देश से प्रेम करने लगेंगे, उसे तोड़ेंगे ही नही। कमेंट करने से पहले आपकी बात पढ़ने लगेंगे। इतना ही नही वह इस बात को भी समझेंगे, उनकी ही सोच के दोनों कौमो के लोगो ने किस तरह से देश को तोड़ा था।

इसलिए बस इतना कीजिये। उनको ज्यादा से ज्यादा अपनी फ्रेंडलिस्ट में जोड़िए। मेरी फ्रेंडलिस्ट में आधे से ज्यादा कम्युनल टाइप लोग हैं। जुबान गन्दी होने के खतरे के बावजूद उनके मुहं लगिये। उन्हें इंसान बनाइए, ताकि वह इस तरह से बात न करे, जैसे इस लेख को पढ़ने के बाद आपस मे और कमेंट बॉक्स में करेंगे। उन्हें देशभक्त बनाइये। यह आपकी जिम्मेदारी है।

जय हिंद । जय भारत ।

View More

Search

Search by Date

जनमत

वाराणसी से पीएम मोदी लोस चुनाव 2019 जीतेंगे?

Navigation

Follow us

Mailing list

Copyright 2018. All right reserved