Satya Darshan

कांग्रेस के जुझारू नेता की अचानक हुई गिरफ्तारी से भड़का आक्रोश, रिहा मगर सरकार की नीयत पर उठे गंभीर सवाल

वाराणसी | मार्च 18, 2019

कांग्रेस की पूर्व उत्तर प्रदेश प्रभारी राष्ट्रीय महासचिव श्रीमती प्रियंका गांधी के गंगा यात्रा के साथ काशी आगमन की तैयारियां एवं सुरक्षा इंतजाम की कवायद जहां पूरी तेजी पर है, वहीं कार्यक्रम में प्रदेश कांग्रेस कमेटी द्वारा आबंटित महत्वपूर्ण जिम्मेदारियों वाले कांग्रेस के वरिष्ठ लोगों की वर्षो पुराने मुकदमों में अकस्मात हरकत में आई पुलिस द्वारा गिरफ्तारी को लेकर कांग्रेस द्वारा रोष प्रकट किया गया है।

उल्लेखनीय है कि वाराणसी छावनी बोर्ड पार्षद एवं पूर्व उपाध्यक्ष तथा मंडल कांग्रेस प्रवक्ता श्री शैलेन्द्र आज जब प्रियंका गांधी के कार्यक्रमों की तैयारियों के क्रम में घर से निकले, तो चार वर्ष पूर्व राजनीतिक आन्दोलन के तहत कांग्रेस के चक्काजाम सविनय अवज्ञा आन्दोलन में रेल रोकने की दर्ज एवं लंबित पड़ी प्राथमिकी पर मालगोदाम के पास पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया। 

बताया जा रहा है कि प्रदेश प्रदेश कांग्रेस ने प्रियंका गांधी के कार्यक्रम में जिन लोगों की विभिन्न स्थानों पर मीडिया प्रबन्धन ड्यूटी लगाई थी, उनमें शैलेन्द्र सिंह की मंडल प्रवक्ता होने के नाते मुख्य जिम्मेदारी नियत थी और आज मीडिया प्रबन्धन से जुड़ी बैठक भी आहूत थी, लेकिन चार साल पुराने मामले में कांग्रेस नेत्री के कार्यक्रम एवं होली पर्व से पूर्व पुलिस की आकस्मिक अति सक्रियता के साथ हुई अप्रत्याशित गिरफ्तारी से पूरा माहौल अफरा तफरी का हो गया और बैठक रोककर सारे दिन कचहरी की दौड़भाग होती रही।

कांग्रेसजनो ने न्यायालय के प्रति आभार प्रकट किया कि आशंका के विपरीत अंतत: शाम को अदालत उठने से पूर्व जमानत प्रार्थनापत्र स्वीकार हो गया। कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि चार वर्ष पूर्व के उस आन्दोलन में भी सभी कांग्रेसी शामिल थे, लेकिन विशेष रूप से मुकदमे में नामजद शैलेन्द्र सिंह को ही किया गया था, जिनकी अहम भूमिका चन्द दिन पूर्व ही छावनी बोर्ड चुनाव में शीर्ष प्रदेश नेताओं के प्रचार के बावजूद सत्तारूढ़ भाजपा की सभी सीटों पर पराजय सुनिश्चित करने में थी।

ज्ञातव्य है कि शैलेन्द्र सिंहजी पर 12 मार्च 2015 के रेल चक्का जाम मामले में उत्तर रेलवे आर पी एफ ने वाद दाखिल किया था और लंबे समय  वारंट इश्यू  कराया हुआ था, जिसमें पूरे चार वर्ष बाद आज अचानक  गिरफ्तारी की गई।  इसकी जानकारी मिलते ही वाराणसी कांग्रेस के वरिष्ठ कांग्रेसजन  उत्तर रेलवे के कार्यालय पहुंच गये। बार एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष श्री प्रभूनाथ पाण्डेय तथा वरिष्ठ अधिवक्ता वीरेन्द्र मिश्र सहित अधिवक्ताओं की कांग्रेस लाबी जमानत की कानूनी प्रक्रिया में जुट गई। अंतत: शाम तक जमानत पर रिहाई संभव हो सकी।

उक्त मामले में कचहरी में भी कांग्रेसियों की सारे दिन सक्रिय गहमागहमी बनी रही। इस अवसर पर मौजूद रहे सर्वश्री विजय शंकर पाण्डेय,  प्रो. सतीश राय , राघवेंद्र चौबे, एड. भूपेंद्र प्रताप सिंह, हरीश मिश्रा, डॉ. नृपेन्द्र नारायण सिंह, अरविंद यादव, सत्यप्रकाश तिवारी, राज सिंह, रोहित दूबे , अजय सिंह "गुड्डू" आदि।

View More

Search

Search by Date

जनमत

वाराणसी से पीएम मोदी लोस चुनाव 2019 जीतेंगे?

Navigation

Follow us

Mailing list

Copyright 2018. All right reserved