Satya Darshan

16 फरवरी: इतिहास मे आज क्या है खास

कम्युनिस्ट क्रांतिकारी फिडेल कास्त्रो ने आज ही के दिन क्यूबा के प्रधानमंत्री पद की शपथ ली. 1959 की क्यूबा क्रांति के बाद उन्होंने देश की बागडोर 2008 तक संभाली. 1976 में वे क्यूबा के राष्ट्रपति भी बने।

दक्षिणपंथी तानाशाह फुल्गेन्सियो बातिस्ता के खिलाफ छापामार अभियान चला कर और उन्हें सत्ता से बेदखल करने के बाद 16 फरवरी 1959 को कास्त्रो प्रधानमंत्री बने. क्यूबा की क्रांति अधिकारिक रूप से 26 जुलाई 1953 को शुरू हुई. अमेरिकी समर्थन वाले तानाशाह बातिस्ता तख्ता पलट के बाद सत्तासीन हुए थे. उस समय कास्त्रो को बहुत कम लोग जानते थे. युवा वकील जो तानाशाह के खिलाफ 1952 के चुनाव में खड़े तो हुए लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिली. क्यूबा के लोग वोट कर पाते इससे पहले ही वोटिंग खत्म कर दी गई।

कास्त्रो ने करीब 130 लोगों का साथ जुटाया और सैन डियागो डे क्यूबा में मोनकाडा सैनिक छावनियों को अपने हाथों में लेने की कोशिश की और वहां रखे हथियारों को हथियाने की भी. उन्हें उम्मीद थी कि इस बैरक के 400 सैनिक एक दिन पहले के सेंट जेम्स उत्सव के बाद थके हुए होंगे या फिर वहां नहीं होंगे. लेकिन यह योजना विफल हो गई और कई क्रांतिकारियों को फांसी दे दी गई जबकि बाकी पर मुकदमा चला. कास्त्रो को भी गिरफ्तार किया गया और उन पर मुकदमा चलाया गया. कास्त्रो पर सरकार को उखाड़ फेंकने का आरोप लगा. कास्त्रो ने सुनवाई के दौरान यह दलील दी कि वह और उनके विद्रोही क्यूबा में लोकतंत्र बहाली के लिए लड़ाई लड़ रहे थे. लेकिन उनकी यह दलील नहीं मानी गई।

कास्त्रो को 15 साल की सजा हुई. दो साल बाद बातिस्ता अपनी ताकत को लेकर इतना आश्वस्त हुए कि उन्होंने सभी नेताओं को माफी दे दी. इसके बाद कास्त्रो अपने भाई राउल कास्त्रो के साथ मेक्सिको चले गए और वहां चे ग्वेरा के साथ मिलकर 26 जुलाई की क्रांति की शुरुआत की. बातिस्ता के खिलाफ क्यूबा में अंसतोष बढ़ता चला गया. 2 दिसंबर 1956 को कास्त्रो क्यूबा के तट पर हथियार से लैस 81 लोगों के साथ पहुंचे. कास्त्रो, राउल और चे ग्वेरा समेत नौ लोग बच गए और बाकी या तो मारे गए या पकड़े गए. गुरिल्ला लड़ाई में बातिस्ता की सेना कमजोर होती गई. 1958 के मध्य तक कास्त्रो के लिए क्यूबा में समर्थन बढ़ता गया।

अमेरिका ने भी बातिस्ता को सैन्य मदद रोक दी. इसके बाद कास्त्रो के सहयोगी चे ग्वेरा ने दिसंबर 1958 में सांता क्लारा पर हमला कर दिया. एक जनवरी 1959 को बातिस्ता अपनी कमजोर होती सेना को देख डॉमिनिक गणराज्य भाग गए. उस वक्त कास्त्रो के पास एक हजार से भी कम जवान थे. बावजूद इसके कास्त्रो ने क्यूबा सरकार के 30,000 सैनिकों की कमान संभाल ली. अन्य विरोधी नेताओं के पास लोकप्रियता और समर्थन की कमी होने का लाभ कास्त्रो को मिला. 16 फरवरी 1959 को फिडेल कास्त्रो ने प्रधानमंत्री पद की शपथ ली. इसके बाद लगभग आधी सदी तक वह क्यूबा के प्रमुख बने रहे।

🔖16 फ़रवरी की अन्य महत्त्वपूर्ण घटनाएँ – 

★लॉस एंजिलिस और सैन फ्रांसिस्को के बीच 1914 में पहले विमान ने उड़ान भरी।

★लुथियाना ने 1918 में खुद को स्वतंत्र घोषित किया।

★मिर्जा गालिब की 1969 में 100वीं पुण्यतिथि पर डाक टिकट जारी किया गया।

★जवाहरलाल नेहरू इंटरनेशनल गोल्ड कप फुटबॉल टूर्नामेंट का आयोजन 1982 में पहली बार कलकत्ता में किया गया।

★मेरिओ सोरेस 1986 में पुर्तग़ाल के प्रथम असैनिक राष्ट्रपति चुने गयें।

★पनडुब्बी से पनडुब्बी पर मार करने की क्षमता वाले मिसाइल को 1987 में भारतीय नौसेना में शामिल किया गया।

★सैम नुजोमा 1990 में नामीबिया के पहले राष्ट्रपति चुने गयें।

★इराक पर अमेरिकी व ब्रिटिश विमानों का 2001 में हमला।

★विश्व की पहली क्लोन भेंड़ डोली को 2003 में दया मृत्यु दी गई।

★मध्य प्रदेश शासन द्वारा 2008 में पार्श्व गायक नितिन मुकेश को लता मंगेशकर पुरस्कार प्रदान किया गया।

★बिहारके मुख्यमंत्री नितिश कुमार ने 2008 से राज्य में ‘मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना’ का शुभारम्भ किया।

🔖16 फ़रवरी को जन्मे व्यक्ति – 

★मराठा साम्राज्य के चौथे पेशवा थोरले माधवराव का जन्म 1745 में हुआ।

★भारत विद्या से संबंधित विषयों के प्रख्यात विद्वान राजेन्द्रलाल मित्रा का जन्म 1822 में हुआ।

★एक फ्रेंच लेखक ओक्तवे मिर्बो का जन्म 1848 में हुआ।

★भारतीय क्रिकेटर वसीम जाफ़र का जन्म 1978 में हुआ।

★अन्तर्राष्ट्रीय प्रसिद्ध चित्रकार, लेखक एवं कला समालोचक गुलाम मोहम्मद शेख़ का जन्म 1937 में हुआ।

🔖16 फ़रवरी को हुए निधन –

★1944 में हिन्दी सिनेमा के पितामाह दादासाहेब फालके का निधन।

★1956 में गणित व भौतिकी के क्षेत्र में महत्त्वपूर्ण कार्य करने वाले भारतीय वैज्ञानिक मेघनाद साहा का निधन।

★2016 में संयुक्त राष्ट्र संघ के छठे महासचिव बुतरस घाली का निधन।

View More

Search

Search by Date

जनमत

वाराणसी से पीएम मोदी लोस चुनाव 2019 जीतेंगे?

Navigation

Follow us

Mailing list

Copyright 2018. All right reserved