Satya Darshan

25 जनवरी: इतिहास में आज क्या है खास

दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र भारत में स्वतंत्र एवं निष्पक्ष चुनाव कराने के लिए आज ही के दिन भारत निर्वाचन आयोग की स्थापना हुई थी। 25 जनवरी को देश के मतदाताओं को जागरुक बनाने के लिए मतदाता दिवस के रूप में मनाया जाता है।

25 जनवरी 1950 को चुनाव आयोग का गठन भारतीय संविधान के अनुच्छेद 324 के अधीन हुआ था। चुनाव आयोग एक स्वायत्त, अर्द्ध न्यायिक, संवैधानिक निकाय है। चुनाव आयोग के काम काज में कार्यपालिका का कोई हस्तक्षेप नहीं होता। चुनाव आयोग के प्रमुख काम हैं निर्वाचन क्षेत्रों का निर्धारण करना, मतदाता सूची तैयार करना, राजनीतिक दलों को मान्यता और चुनाव चिह्न देना, उम्मीदवारों के नामांकन पत्रों की जांच करना, उम्मीदवारों के चुनाव खर्च की जांच करना और स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव कराना।

भारत के पहले चुनाव आयुक्त सुकुमार सेन थे, जिन्होंने 21 मार्च 1950 से 19 दिसंबर 1958 तक कार्यभार संभाला। अक्टूबर 1989 तक सिर्फ एक ही चुनाव आयुक्त हुआ करते थे फिर 16 अक्टूबर 1989 से लेकर 1 जनवरी 1990 के बीच यह तीन सदस्यीय निकाय बन गया। उसके बाद इसे फिर एक सदस्यीय निकाय बना दिया गया। लेकिन 1 अक्टूबर 1993 को इसे तीन सदस्यीय निकाय बना दिया गया।

वक्त गुजरने के साथ चुनाव आयोग ने भारतीय चुनाव व्यवस्था के सुधार के लिए सराहनीय कदम उठाए। भारत के 10वें मुख्य चुनाव आयुक्त बने टीएन शेषन ने अपने कार्यकाल में बहुत से सुधार किए थे।

चुनाव आयोग की सख्ती का असर चुनावों में दिखने लगा और चुनावों में बेतहाशा पैसों की बर्बादी पर भी एक हद तक रोक लगी। शेषन ने चुनाव आचार संहिता को कड़ाई से लागू कराया था। वहीं मौजूदा सरकार मे देश के ढहते लोकतांत्रिक स्तंभो के बीच चुनाव आयोग की भी प्रतिष्ठा भसकती जा रही है। 

25 जनवरी की अन्य महत्त्वपूर्ण घटनाएँ –

ब्राजील के साओ पाउलो शहर की स्थापना 1554 में हुयी।

1565 में हुए तेल्लीकोटा की लड़ाई में विजयनगर साम्राज्य नष्ट हुआ।

डच गणराज्य की स्थापना 1579 में हुई।

मॉस्को विश्वविद्यालय की स्थापना 1755 में हुई।

पौलैंड की संसद ने स्वतंत्रता की घोषणा 1831 में की।

चिली में 1839 में आये भूकम्प से लगभग 10,000 से ज्यादा लोगों की मौत हुई।

भारतीय ब्रह्म समाज की शुरूआत प्रसिद्ध समाज सुधारक केशव चंद्र सेन ने 1880 में की।

एलेक्जेंडर ग्राहम बेल और थॉमस अल्वा एडीसन ने ओरिएंटल टेलीफोन कंपनी 1881 में बनायी।

पेंसिल्वेनिया के चेस्विक में 1904 में हुए कोयला खदान विस्फोट में 179 लोगों की मौत हो गयी।

फ्रांस के शैमॉनिक्स में पहले शीतकालीन ओलंपिक खेलों का 1924 में आयोजन।

सार के प्रशासन को लेकर 1952 में जर्मनी और फ्राँस के बीच विवाद हुआ।

पनामा और अमेरिका ने 1955 में नहर संधि पर हस्ताक्षर किये।

ब्रिटेन ने पूर्वी जर्मनी से 1959 में व्यापार समझौता किया।

उत्तरी विएतनाम और अमेरिका के बीच 1969 में पेरिस में शांति वार्ता प्रारम्भ।

सन 1971 में हिमाचल प्रदेश को पूर्ण राज्य घोषित किया गया।

शेख मुजीबुर्रहमान 1975 में बांगला देश के राष्ट्रपति बने।

तीन साल के अंतराल के बाद 1980 में पद्म विभूषण, भारत रत्न,आदि नागरिक सम्मान दोबारा प्रदान किये जाने लगे।

प्रसिद्ध समाजसेवी मदर टेरेसा को 1980 में भारत रत्न से सम्मानित किया गया।

आचार्य विनोबा भावे को 1983 में मरणोपरांत सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से नवाजा गया।

रामसेवक शंकर ने 1988 में सूरीनाम के राष्ट्रपति के रूप में शपथ ग्रहण की।

इंग्लैंड में 1990 में आये तूफान से बच्चों समेत लगभग 50 लोगों की जाने गयी।

तुर्की का प्रथम दूरसंचार उपग्रह ‘तुर्कसैट प्रथम’ 1994 में अटलांटिक महासागर में गिरा।

दक्षिण अमेरिका के कोलंबिया में 1999 में आये भूकंप से करीब 300 लोगों की मौत हो गई और 1000 अन्य घायल हो गये।

2002 में भारतीय वायु सेना के पहले ‘एयर मार्शल’ अर्जुन सिंह बने।

चीन के लोकतंत्र समर्थक नेता फेंग जू को 2003 में देश निकाला दिया गया।

अंतरिक्ष यान ऑपर्च्युनिटी 2004 में मंग्रल ग्रह पर सफलतापूर्वक उतरा।

महाराष्ट्र के सातारा स्थित एक देवी के मंदिर में 2005 में भगदड़‌ मचने से 300 से अधिक मरे।

केन्द्र सरकार ने 2009 में पद्मभूषण व पद्मश्री पुरस्कारों की घोषणा की।

25 जनवरी को जन्मे व्यक्ति –

1824 में प्रसिद्ध बंगाली कवि माइकल मधुसूदन दत्त का जन्म।

1874 में ब्रिटिश साहित्यकार समरसेट मॉम का जन्म।

1882 में अंग्रेज साहित्यकार और निबंधकार वर्जीनिया वुल्फ का जन्म।

1930 में भारत के प्रसिद्ध साहित्यकार और ‘कादम्बिनी पत्रिका’ के सम्पादक राजेन्द्र अवस्थी का जन्म।

25 जनवरी को हुए निधन –

भारतीय व्यापारी, उद्योगपति और सार्वजनिक नेता नलिनी रंजन सरकार का 1953 में निधन।

भारत के स्वतंत्रता सेनानिओं में से एक अनंता सिंह का 1969 में निधन।

‘भारतीय जनता पार्टी’ की प्रसिद्ध नेता विजयाराजे सिंधिया का 2001 में निधन।

25 जनवरी के महत्त्वपूर्ण अवसर एवं उत्सव –

राष्ट्रीय मतदाता दिवस

View More

Search

Search by Date

जनमत

वाराणसी से पीएम मोदी लोस चुनाव 2019 जीतेंगे?

Navigation

Follow us

Mailing list

Copyright 2018. All right reserved