Satya Darshan

22 जनवरी: इतिहास मे आज क्या है खास

आज ही के दिन ओडिशा में हुई एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना में उग्र भीड़ ने ऑस्ट्रेलियाई ईसाई मिशनरी ग्राहम स्टेन्स और उनके दो बेटों को जिंदा जलाकर मार डाला था। भीड़ की अगुआई करने वाले दारा सिंह को सुप्रीम कोर्ट ने सुनाई थी फांसी।

22 जनवरी 1999 को ऑस्ट्रेलियाई मिशनरी ग्रैहम स्टेंस और उनके बेटों 10 वर्षीय फिलिप और 6 वर्षीय टिमोथी को ओडिशा के क्योंझर जिले में दंगाई भीड़ ने जिंदा जला दिया था। 

वारदात वाली रात स्टेंस अपने दोनों बेटों के साथ क्योंझर जिले के मनोहरपुर गांव में थे और रात होने की वजह से कार में ही सो रहे थे। दारा सिंह के नेतृत्व में भीड़ ने स्टेंस की कार पर हमला करने के बाद आग लगा दी।

ईसाई मिशनरी की हत्या से दुनियाभर में चिंता जाहिर की गई। भारत ने ईसाइयों और अंतरराष्ट्रीय दबाव को देखते हुए न्यायिक आयोग का गठन किया। 

मामले की जांच कर रही सीबीआई ने दारा सिंह और 18 आरोपियों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किए। सीबीआई को उस वक्त बड़ी कामयाबी मिली जब उसने ओडिशा के मयूरभंज जिले से 31 जनवरी 2000 को दारा सिंह को गिरफ्तार किया।

निचली अदालत ने दारा सिंह को मृत्युदंड और अन्य 12 दोषियों को उम्र कैद की सजा दी। 

हालांकि बाद में ओडिशा उच्च न्यायालय ने दारा सिंह की फांसी की सजा को उम्र कैद में तब्दील कर दिया। जबकि एक अन्य अभियुक्त की सजा को बरकरार रखा।

साथ ही अदालत ने अन्य लोगों को बरी कर दिया। ग्रैहम स्टेंस ओडिशा में पिछले तीस सालों से गरीब और कुष्ठ रोगियों की सेवा का काम कर रहे थे। उनपर दक्षिणपंथी यह आरोप लगाते रहते थे कि वह गरीबों को बहला फुसलाकर धर्मांतरण करते हैं।

22 जनवरी की अन्य महत्त्वपूर्ण घटनाएँ – 

काहिरा पर तुर्की ने 1517 में कब्जा किया।

बोस्टन एवं न्यूयॉर्क के बीच 1673 में डाक सेवा की शुरुआत हुई।

1760 में हुए वांदीवाश के युद्ध में अंग्रेजों ने फ्रांसिसियों को हराया।

दक्षिणी सीरिया में 1837 में आये भूकंप से हजारों लोगों की जाने गयी।

रूस के सेंट पीट्सबर्ग में मजदूरों पर 1905 में गोलियां चलाई गयी जिसमें लगभग 600 से ज्यादा लोग मारे गए।

रैमसे मैकडोनाल्ड 1924 में ब्रिटेन में लेबर पार्टी के पहले प्रधानमंत्री बने।

देहरादून में दृष्टिहीनों के लिए 1963 में राष्ट्रीय पुस्तकालय की स्थापना हुई।

पश्चिम बंगाल के दुर्गापुर में इस्पात कारखाना 1965 में शुरू हुआ।

अपोलो 5 ने 1968 में पहले ल्यूनर मॉड्यूल के साथ अंतरिक्ष की ओर उड़ान भरी थी।

बोइंग 747 का 1970 में लंदन एवं न्यूयॉर्क के बीच पहली व्यावसायिक उड़ान शुरु हुई।

इस्तानबुल की पूरी आबादी को 1972 में 24 घंटे के लिए नजरबंद किया गया।

अमेरिकी सुप्रीम कोर्ट ने 1973 को गर्भपात को कानूनी मान्यता दे दी। कोर्ट ने अपने फैसले तहत महिलाओं गर्भवती होने के बाद 6 महीने के भीतर गर्भपात करवा सकती हैं।

नाइजीरिया मे 1973 में जॉर्डन एयरलाइंस का विमान दुर्घटनाग्रस्त, लगभग 200 यात्रियों की मृत्यु।

रोनाल्ड रीगन का 1981 में संयुक्तराष्ट्र अमेरिका के 40वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ ग्रहण।

1992 में डॉ. रॉबर्टा बॉन्डर अंतरिक्ष में जाने वाली कनाडा की न्यूरोलॉजिस्ट और पहली महिला बनी।

कैलीफ़ोर्निया विश्वविद्यालय की वेधशाला के वैज्ञानिकों ने 1996 में पृथ्वी से लगभग 3,50,000 प्रकाश वर्ष की दूरी पर दो नये ग्रहों की खोज की।

नासा के अंतरिक्ष यान पायनीयर 10 पृथ्वी से (सर्वाधिक दूर मानव निर्मित यान) 2003 में से अंतिम बार संपर्क स्थापित हुआ।

इवा मोराल्स ने 2006 में बोलीविया के राष्ट्रपति पद की शपथ ली।

22 जनवरी को जन्मे व्यक्ति -

स्वतंत्रता सेनानी ठाकुर रोशन सिंह का 1892 में जन्म।

रूसी फ़िल्म निर्देशक सेर्गे मिखाइलोविच आइसेन्स्टाइन (Sergei Eisenstein ) का 1898 में जन्म।

हिन्दी फ़िल्मों के एक अभिनेता, पटकथा-लेखक, निर्माता, निर्देशक और सम्पादक विजय आनन्द का 1934 में जन्म।

भारतीय अभिनेत्री नम्रता शिरोडकर का 1972 में जन्म।

कर्नाटक संगीत शैली के प्रसिद्ध गायक तथा मैग्सेसे पुरस्कार प्राप्त व्यक्ति टी. एम. कृष्णा का 1976 में जन्म।

असम के सामाजिक कार्यकर्ता तरुण राम फुकन का 1977 में जन्म।

बर्मा के राजनयिक तथा संयुक्त राष्ट्र के तीसरे महासचिव यू. थांट का 1909 में जन्म।

त्रिपुरा के 9वें मुख्यमंत्री माणिक सरकार का 1949 में जन्म।

22 जनवरी को हुए निधन –

1666 में मुगल बादशाह शाहजहाँ का निधन हुआ।

1901 में इंग्लैंड की महारानी विक्टोरिया का निधन हुआ।

2014 में प्रसिद्ध तेलुगु फ़िल्म निर्माता और फ़िल्म अभिनेता ए. नागेश्वर का निधन हुआ।

View More

Search

Search by Date

जनमत

वाराणसी से पीएम मोदी लोस चुनाव 2019 जीतेंगे?

Navigation

Follow us

Mailing list

Copyright 2018. All right reserved