Satya Darshan

सूचना के अधिकार को कमजोर कर रही है सरकार- विपक्ष

नयी दिल्ली | जुलाई 23, 2019 

कांग्रेस सहित विपक्षी दलों ने सरकार पर सूचना का अधिकार कानून को कमजोर करने का आरोप लगाते हुए सोमवार को कहा कि उसकी मंशा मनमाने तरीके से काम करने की है ताकि सरकार के काम की सूचना किसी को नहीं मिल सके।

लोकसभा में कांग्रेस के शशि थरूर ने सूचना का अधिकार (संशोधन) विधेयक 2019 पर चर्चा की शुरुआत करते हुए कहा कि यह विधेयक 2005 में कांग्रेस के नेतृत्व वाली संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन सरकार इस मंशा से लायी थी कि प्रशासन में पारदर्शिता रहे और जो भी नागरिक सरकार के निर्णयों की जानकारी हासिल करना चाहता है उसे निर्धारित समय पर सूचना मिल सके।

उन्होंने कहा कि इस कानून के प्रावधान इस सरकार को रास नहीं आ रहे। सरकार के काम की सूचना लोग हक से माँगे यह इस सरकार को अच्छा नहीं लगा रहा है। इसलिए वह इस कानून पर संशोधन विधेयक लायी है। उन्होंने कहा कि सूचना पाना देश के हर नागरिक का अधिकार है। आम लोगों के हित में सरकार को इस विधेयक को वापस लेना चाहिए।

द्रविड मुनेत्र कषगम् सदस्य ए. राजा ने कहा कि सरकार शासन में लोगों की भागीदारी को कम करना चाहती है और आम आदमी से सूचनाएं छिपाना चाहती है इसलिए वह सूचना का अधिकार कानून में संशोधन कर रही है। 

उन्होंने इस संशोधन विधेयक को लोकतंत्र को खत्म करने की साजिश करार दिया और कहा कि आज सरकार प्रचंड बहुत से इस विधेयक को पारित करना चाहती है इसलिए यह दिन लोकतंत्र के लिए काला दिन है। देश की जनता इसके लिए इस सरकार को कभी माफ नहीं करेगी।

उन्होंने कहा कि सूचना के अधिकार के तहत सरकार की जिम्मेदारी तय होती है और इससे शासन में लोगों की भागीदारी सुनिश्चित होती है। लेकिन सरकार आम आदमी की इस भागीदारी पर कुठाराघात कर रही है और उसके हक को छीना जा रहा है। 

उन्होंने कहा कि इस विधेयक के पारित होने पर सरकार की बहुत सी बातें छिपी रह जायेंगी और लोग सूचना के अधिकार के तहत यह सूचना हासिल नहीं कर पाएंगे।

View More

Search

Search by Date

जनमत

वाराणसी से पीएम मोदी लोस चुनाव 2019 जीतेंगे?

Navigation

Follow us

Mailing list

Copyright 2018. All right reserved