Satya Darshan

बीबी के साथ झगड़े भी रिकॉर्ड कर रहा है गूगल असिस्टेंट

ईशा भाटिया | जुलाई 22, 2019

आपकी जेब में रखा स्मार्टफोन आपकी हर बात सुन रहा है और आपकी निजी बातों को अनजान लोगों तक पहुंचा रहा है. गूगल ने खुद माना है कि वह लोगों की रिकॉर्डिंग का इस्तेमाल करता है.

ओके गूगल, स्कोर क्या चल रहा है? सिरी, आज मौसम कैसा है? अलेक्सा, अगला गाना चला दो. गूगल, सिरी और अलेक्सा में से कोई भी इंसान नहीं है. लेकिन मशीनों से अब हम वैसे ही बात करने लगे हैं जैसे वे हमारे परिवार के सदस्य हों. फर्क इतना ही है कि परिवार वाले आपकी बातों को सुन कर शायद कभी भूल भी जाएं लेकिन ये मशीनें उन्हें हमेशा याद रखेंगी.

वॉयस असिस्टेंट जब बाजार में आए तो "मशीन बेस्ड लर्निंग" पर खूब चर्चा हुई. मकसद था मशीनों को कुछ इस तरह से विकसित करना कि वे खुद ही और सीखती रहें. आवाज सुन सुन कर वे और स्मार्ट हो जाती हैं, अलग अलग लहजों को भी समझने लगती हैं. लेकिन हाल ही में लीक हुए कुछ टेप दिखाते हैं कि मशीनें आपकी बातों को खुद तक सीमित नहीं रखती हैं, बल्कि कोई और भी इन्हें सुन रहा होता है. 

ऐसा भी नहीं है कि जब आप वॉयस असिस्टेंट से बात करते हैं, तब आपके आसपास बिलकुल सन्नाटा होता है. जिस वक्त आप ओके गूगल कह रहे होते हैं तब पीछे शायद आपके बच्चे आपस में बातें कर रहे होते हैं, या फिर आपके दोस्त या परिवार के लोग किसी बहस में होते हैं. और ये सारी बातचीत वॉयस असिस्टेंट के जरिए रिकॉर्ड हो जाती है.

डच भाषा में लीक हुई कुछ रिकॉर्डिंग्स के बाद गूगल के प्रोजेक्ट मैनेजर डेविड मोनसीस ने माना है कि लोगों की निजता का उल्लंघन हुआ है. एक ब्लॉग पोस्ट में उन्होंने लिखा, "हम पूरी तफ्तीश कर रहे हैं ताकि दोबारा इस तरह की गलती ना हो." बेल्जियम के एक न्यूज चैनल वीआरटी एनडब्ल्यूएस का दावा है कि उनके पास ऐसी एक हजार रिकॉर्डिंग्स पहुंची हैं. 

चैनल के अनुसार इनमें कई लोगों की निजी बातचीत है और इनमें लोगों के अकाउंट के जरिए उनकी पहचान भी बताई गई है. ये टेप सिर्फ मशीन के पास ना रह कर कुछ लोगों को दी गई थीं ताकि वे बेहतर प्रोग्रामिंग में मदद कर सकें. इन लोगों को तकनीकी भाषा में "कॉन्ट्रैक्टर" कहा जाता है.

गूगल का दावा है कि कॉन्ट्रैक्टरों को लोगों के अकाउंट की कोई जानकारी नहीं दी जाती है. गूगल का यह भी कहना है कि उन्हें सिर्फ वॉयस असिस्टेंट को दिए गए निर्देशों को ट्रांसक्राइब करने को कहा जाता है, पीछे चल रही लोगों की बातचीत को नहीं. लेकिन चैनल के पास मौजूद रिकॉर्डिंग इस दावे को गलत साबित करती हैं.

कई बार तो लोगों की आवाज तब रिकॉर्ड हो गई जब असिस्टेंट को लगा कि उससे बात की जा रही है जबकि ऐसा था नहीं. यही वजह है कि इन रिकॉर्डिंग में पति पत्नी के झगड़े भी शामिल हैं. गूगल का यह भी कहना है कि जब लोग वॉयस असिस्टेंट या फिर उससे जुड़े ऐप इस्तेमाल करते हैं तो वे नियम और शर्तों को भी स्वीकारते हैं. इन शर्तों में आवाज रिकॉर्ड करने की बात भी कही गई है लेकिन साफ तौर पर नहीं. ठीक ऐसा ही एमेजॉन के अलेक्सा के साथ भी है.

इसके अलावा एक दिक्कत यह भी है कि जिस व्यक्ति का अकाउंट है, वह स्वीकृति सिर्फ अपने लिए दे रहा है, अपने आसपास के लोगों के लिए नहीं. खास कर बच्चों की आवाज की रिकॉर्डिंग की कहीं कोई अनुमति नहीं है. बावजूद इसके गूगल के पास बच्चों की आवाज का डाटा जमा होता जा रहा है.

इससे बचने के लिए यूजर चाहें तो रिकॉर्डिंग फीचर को बंद भी कर सकते हैं. लेकिन ऐसा करने पर वॉयस असिस्टेंट ठीक से काम नहीं कर पाता है. वह यूजर के सवालों के जवाब नहीं दे पाता है, लहजा बदलने पर शब्दों को समझ नहीं पाता है. मजबूरन यूजर इसे ऑन करके रखना ही बेहतर समझते हैं. स्मार्टफोन समेत दुनिया में इस वक्त एक अरब ऐसे डिवाइस इस्तेमाल हो रहे हैं, जिन पर गूगल असिस्टेंट इस्तेमाल हो रहा है. ऐसे में कंपनी के पास असीम डाटा जमा हो रहा है.

View More

Search

Search by Date

जनमत

वाराणसी से पीएम मोदी लोस चुनाव 2019 जीतेंगे?

Navigation

Follow us

Mailing list

Copyright 2018. All right reserved