Satya Darshan

गुजरात: दो साल में गिर वन के 222 एशियाई शेरों की मौत, कांग्रेस ने लगाया घोर लापरवाही का आरोप

अहमदाबाद | जुलाई 18, 2019

गुजरात का गिर वन जंगल के राजा शेरों की कब्रगाह बनता जा रहा है.  गिर वन  पिछले में दो सालों में   222 शेरों की मौत हो चुकी है. गुजरात सरकार की ओर से विधानसभा में यह जानकारी दी  गयी है,  गुजरात में इस वक्त मॉनसून सत्र चल रहा है.   

वनमंत्री गणपत वसावा ने कहा कि पिछले दो सालों 2017-18 और 2018-2019 में अब तक  222 शेरों की मौत हो चुकी है. वन मंत्री ने कहा है कि ज्यादातर शेरों की मौत प्राकृतिक है, हालांकि कई शेर अप्राकृतिक कारणों से भी मरे हैं. सरकारी के आंकड़ों के  अनुसार दो साल में 52 शेरों, 74 शेरनियों जबकि 90 शावकों की मौत हुई है.  जान लें कि शेरों से जुड़े आंकड़ों की जानकारी कांग्रेस के विधायक इमरान खेड़ावाला ने मांगी थी.

गुजरात के जूनागढ़ में स्थित गिर वन बाघ संरक्षित क्षेत्र है. यह क्षेत्र पूरी दुनिया में एशियाई बब्बर शेरों के लिए विख्यात है. जूनागढ़ नगर से 60 किलोमीटर दक्षिण-पश्चिम में स्थित इस उद्यान का क्षेत्रफल लगभग 1,295 वर्ग किलोमीटर है. गिर वन संरक्षित क्षेत्र की स्थापना 1913 में एशियाई शेरों को संरक्षण प्रदान करने के लिए की गयी थी.

वन विभाग शेरों के रख-रखाव में घोर लापरवाही बरत रहा है

सरकार द्वारा डाटा दिये जाने के बाद कांग्रेस ने सदन में हंगामा किया और कहा कि वन विभाग शेरों के रख-रखाव में घोर लापरवाही बरत रहा है. कांग्रेस का आरोप है कि केंद्र सरकार शेरों पर खर्च करने के लिए करोड़ों रुपये की ग्रांट की देती है, बावजूद इसके शेरों की असमय मौत हो रही है.

वन विभाग ने माना कि 2018-19 में केनाइन डिस्टेम्पर वायरस और बाबेसिया जैसे वायरस के इंफेक्शन की वजह से 34 शेरों की मौत हुई है.  जान लें कि पिछली बार जब ये वायरस फैला था तब अमेरिका से 300 वैक्सीन मंगवाये गये थे.  वन विभाग की आखिरी गिनती के अनुसार फिलहाल गिर वन में 109 शेर, 201 शेरनी जबकि 200 से ज्यादा शेर के बच्चे हैं.

वन मंत्री ने विधानसभा में यह भी बताया कि गिर के जंगल में अब तक 74 लोगों को गैरकानूनी लॉयन शो करते हुए गिरफ्तार किया गया है. सरकार ने कहा कि गिर के जगंल में शेरों पर नजर रखने के लिए 75 रेडियो कॉलर भी मंगवाये गये हैं और इसे लगाया गया है. शेरों में होने वाली बीमारी से निपटने के लिए एंबुलेंस सर्विस की भी शुरुआत भी की गयी है.

View More

Search

Search by Date

जनमत

वाराणसी से पीएम मोदी लोस चुनाव 2019 जीतेंगे?

Navigation

Follow us

Mailing list

Copyright 2018. All right reserved