Satya Darshan

मॉब लिंचिंग के खौफ से डरा मुस्लिम आईएएस आफिसर, नाम बदलने का लिया फैसला

भोपाल (एसडी) | जुलाई 8, 2019

देश में लगातार बढ़ रही मॉब लिंचिंग की घटनाओं से परेशान मध्य प्रदेश के एक आईएएस अधिकारी ने अपना नाम बदलने का फैसला लिया है. दरअसल मध्य प्रदेश में तैनात नियाज खान ने बीते शनिवार मॉब लिंचिंग पर चिंता जाहिर करते हुए एक के एक बाद कई ट्वीट किए. अपने ट्वीट में उन्होंने लिखा कि पिछले 6 महीनों से मैं इस पुस्तक के लिए और अपने लिए एक नया नाम ढूंढ रहा हूं, ताकि मैं अपनी मुस्लिम पहचान छिपा सकूं. खुद को नफरत की तलवार से बचाने के लिए यह जरूरी है.

अपने दूसरे ट्वीट में नियाज ने लिखा कि नया नाम मुझे हिंसक भीड़ से बचाएगा. अगर मेरे पास टोपी, कुर्ता और दाढ़ी नहीं है तो मैं भीड़ को अपना नकली नाम बताकर आसानी से निकल सकता हूं. हालांकि, अगर मेरा भाई पारंपरिक कपड़े पहन रहा है और दाढ़ी रखता है तो वह सबसे खतरनाक स्थिति में है. साथ ही उनका कहना है कि कोई भी संस्थान हमें बचाने में सक्षम नहीं है. ऐसे में नाम बदलना बेहतर है.

Niyaz Khan@saifasa

The new name will save me from the violent crowd. If I have no topi, no kurta and no beard I can get away easily by telling my fake name to the crowd. However, if my brother is wearing traditional clothes and has beard he is in most dangerous situation.

63

2:47 PM - Jul 6, 2019

Twitter Ads info and privacy

117 people are talking about this

नियाज अपने एक ट्वीट में कहते हैं कि मेरे समुदाय के फिल्म अभिनेताओं को अपनी फ़िल्में बचाने के लिए एक नया नाम ढूंढ लेना चाहिए. साथ ही उनका कहना है कि अब तो टॉप स्टार्स की फिल्में भी फ्लॉप होने लगी हैं. उन्हें इसका मतलब समझना चाहिए.

वैसे यह कोई पहला मौका नहीं है जब नियाज खान के ट्वीट मीडिया की सुर्खियां बन रहे हैं. इसके पहले भी जनवरी महीने में नियाज में ट्वीट करते हुए कहा था कि ‘सरकारी सेवा में 17 साल, 10 जिलों में ट्रांसफर और 19 शिफ्टिंग्स में मुझे हमेशा एक जर्मन यहूदी की तरह अछूत महसूस कराया गया। खान उपनाम ने मेरा भूत की तरह पीछा किया है’ जिसे लेकर काफी हंगामा हुआ था.

View More

Search

Search by Date

जनमत

वाराणसी से पीएम मोदी लोस चुनाव 2019 जीतेंगे?

Navigation

Follow us

Mailing list

Copyright 2018. All right reserved