Satya Darshan

मशहूर उद्योगपति बीके बिड़ला का मुंबई में निधन, 15 वर्ष की आयु से शुरू किया था कारोबार

मुंबई | जुलाई 4, 2019

जाने माने उद्योगपति और कुमार मंगलम बिड़ला के दादा बीके बिड़ला का मुंबई में निधन हो गया. 98 वर्ष की उम्र में भारतीय इंडस्ट्री के अगुआ बिड़ला को उम्र संबंधी बीमारियां थीं. यह जानकारी उनके परिवार ने दी. उनकी पत्नी सरला बिड़ला का निधन 2015 में हुआ था और उनके इकलौते बेटे आदित्य विक्रम बिड़ला का 1995 में निधन हो गया था. 

उनकी दो बेटियां मंजूश्री खेतान केसोराम इंडस्ट्रीज और जयश्री मोहता जयश्री टी एंड इंडस्ट्रीज का संचालन करती हैं. सूत्रों के मुताबिक ओम बिड़ला के मृत शरीर को मुंबई से कोलकाता के बिड़ला पार्क में स्थित उनके आवास पर ले जाया जाएगा और गुरुवार को अंतिम संस्कार होगा.

उनके पोते कुमारमंगलम बिड़ला ने उनकी बिगड़ती सेहत को देखते हुए कोलकाता से मुंबई लेकर आए थे. बिड़ला भाइयों के नाम से मुंबई में बिड़ला बिल्डिंग है. यह बिल्डिंग बीके बिड़ला के सम्मान में गुरुवार को बंद रहेगी. 15 वर्ष की उम्र से कारोबार की शुरुआत बीके बिड़ला परोपकारी घनश्याम दास बिड़ला के सबसे छोटे बेटे थे. उनका जन्म 1921 में हुआ था. 

15 साल की उम्र से ही वह कारोबारी गतिविधियों में शामिल हो गए थे और इस उम्र में वह कई कंपनियों से जुड़ चुके थे और केसोराम इंडस्ट्रीज के चेयरमैन बन गए.

उन्होंने कई कारोबारी पहल में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाया था. बिड़ला ने विशेष रूप से कपास कॉटन, विस्कोस, पॉलिस्टर और नायलॉन धागा, कागज, शिपिंग, पारदर्शी कागज, सीमेंट, चाय, कॉफी, इलायची, रसायन, प्लाईवुड जैसे कई क्षेत्रों में कारोबार किया. कृष्णारपन चैरिटी ट्रस्ट के चेयरमैन भी थे बिड़ला बीके बिड़ला ग्रुप में सेंचुरी टेक्सटाइल्स, सेंचुरा इंका, जयश्री टी एंड इंडस्ट्रीज और केसोराम इंडस्ट्रीज आती हैं. 

बिड़ला कृष्णारपन चैरिटी ट्रस्ट के चेयरमैन थे जो राजस्थान के पिलानी में स्थित बीके बिड़ला इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग (बिट्स पिलानी) का संचालन करती है. बिट्स पिलानी के अलावा यह ट्रस्ट देश भर में स्थित 25 शिक्षण संस्थानों के संरक्षक के रूप में काम करती है.

View More

Search

Search by Date

जनमत

वाराणसी से पीएम मोदी लोस चुनाव 2019 जीतेंगे?

Navigation

Follow us

Mailing list

Copyright 2018. All right reserved