Satya Darshan

बीजेपी बंगाल को आग में झोकने के लिए उतारु, अब नमाज के विरोध में सडकों पर हनुमान चालीसा पढ़ रही है पार्टी

कोलकाता (एसडी) | जून 26, 2019

लोकसभा चुनाव के बाद से ही बंगाल में जो बवाल शुरू हुआ है वो ख़त्म होने का नाम नहीं ले रहा है। सत्ताधारी तृणमूल और बीजेपी के बीच लगातार संघर्ष बढ़ता ही जा रहा है। दोनों पार्टियों के समर्थकों के बीच झड़प और हिंसा की खबरें के बीच अब नया बवाल सामने आ गया है। ताजा मामले में भाजपा यूथ विंग के नेताओं ने कोलकाता की सड़कों पर खुले में नमाज पढ़े जाने और उसके चलते लगने वाले ट्रैफिक जाम के प्रति विरोध जताया है। विरोध जताने के लिए भाजपा युवा मोर्चा के नेताओं ने खुद भी शहर की सड़कों पर मंगलवार को हनुमान चालीसा का पाठ करने का फैसला किया है।

बता दें कि शुक्रवार को नमाज के चलते कोलकाता की कई सड़कें बंद कर दी जाती हैं। जिसका भाजपा यूथ विंग द्वारा विरोध किया जा रहा है। टाइम्स नाउ की एक खबर के अनुसार, भाजपा युवा मोर्चा के हावड़ा जिलाध्यक्ष ओम प्रकाश सिंह का कहना है कि ‘शुक्रवार की नमाज के लिए जीटी रोड बंद कर दी जाती है। मरीज मर जाते हैं, लोग अपने ऑफिस टाइम पर नहीं पहुंच पाते हैं।’ सिंह के अनुसार, ‘जब तक यह चलता रहेगा, तब तक हम भी मंगलवार को सभी प्रमुख सड़कों पर हनुमान मंदिर के नजदीक हनुमान चालीसा का पाठ करेंगे।’

Embedded video

ANI✔@ANI

WB: Bharatiya Janata Yuva Morcha recite Hanuman Chalisa near Bally Khal in Howrah. OP Singh, BJYM Pres, Howrah says, "GT Road is blocked to offer Friday namaz. Patients die,people can't reach office on time.Recitation continues till Friday Namaz like that is offered (25.6)

4,614

7:23 AM - Jun 26, 2019

1,833 people are talking about this

Twitter Ads info and privacy

 

सड़कों पर नमाज पढ़ने को लेकर विवाद कोई नई बात नहीं है। इससे पहले भी यह विवाद हो चुका है। बीते साल उत्तर प्रदेश के नोएडा में भी एक सार्वजनिक पार्क में नमाज अता करने को लेकर विवाद हो गया था। इसी तरह साल 2010 में राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में भी इसे लेकर विवाद हुआ था। दरअसल दक्षिण दिल्ली के अलकनंदा इलाके में अरावली अपार्टमेंट्स में रहने वाले लोगों ने शुक्रवार को नमाज के चलते सड़क जाम होने की शिकायत की थी। निवासियों ने इस मामले में दिल्ली पुलिस के खिलाफ दिल्ली हाईकोर्ट में अवमानना का मामला भी दाखिल कराया था। दरअसल कोर्ट ने अपने फैसले में नमाज मस्जिद में पढ़े जाने के निर्देश दिए थे, लेकिन कोर्ट के निर्देश के बावजूद नमाज सड़कों पर पढ़ी जा रही थी, जिसके खिलाफ अरावली अपार्टमेंट्स के निवासी कोर्ट पहुंच गए थे।

View More

Search

Search by Date

जनमत

वाराणसी से पीएम मोदी लोस चुनाव 2019 जीतेंगे?

Navigation

Follow us

Mailing list

Copyright 2018. All right reserved