Satya Darshan

राज्यसभा से सेवानिवृत्त हुए मनमोहन सिंह

नयी दिल्ली (एसडी) | जून 15, 2019

राज्य सभा की वेबसाइट पर शुक्रवार शाम इस सदन के मौजूदा सदस्यों की सूची से 28 साल में पहली बार पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह का नाम हट गया और पूर्व सांसदों की सूची में शामिल हो गया। 

असम विधानसभा में उनकी पार्टी के विधायको की संख्या इतनी नहीं है कि उन्हें फिर से चुना जा सके, इसलिए 86 वर्षीय सिंह शुक्रवार को राज्य सभा से सेवानिवृत्त हो गए। सिंह पहली बार सदन में 1 अक्टूूबर, 1991 को असम से चुनकर आए थे। उस समय वह पी वी नरसिंह राव सरकार में देश के वित्त मंत्री थे। 

उन्होने लगातार पांच कार्यकालों में राज्य का प्रतिनिधित्व किया। सिंह देश के प्रधानमंत्री के रूप में अपने 10 साल के कार्यकाल में सदन के नेता थे। वह 1998 से 2004 के बीच राज्य सभा में विपक्ष के नेता रहे। 

अब पूर्व प्रधानमंत्री को कांग्रेस की सहयोगी द्रविड़ मुन्ननेत्र कषगम (द्रमुक) के उन्हें अगले महीने राज्य सभा में भेजने या अप्रैल 2020 में राज्य सभा के अगले द्विवर्षीय चुनावों तक इंतजार करना होगा। 

दरअसल अगले महीने तमिलनाडु के पांच सांसद सेवानिवृत्त हो रहे हैं। अप्रैल 2020 में 54 सांसद सेवानिवृत्त होंगे।  तमिलनाडुु के पांच राज्य सभा सांसद जुलाई में सेवानिवृत्त होंगे। द्रमुक और उसकी सहयोगी पार्टियों के विधायकों की तादाद इतनी है कि वे राज्य सभा के कम से कम तीन सांसदों को चुन सकते हैं। 

द्रमुक एमडीएमके के प्रमुख वाइको को पहले ही एक सीट देने का वादा कर चुकी है। हालांकि सूत्रों ने कहा कि इस मुद्दे पर द्रमुक और कांग्रेस के बीच अभी कोई बातचीत नहीं हुई है। 

कांग्रेस सिंह को गुजरात से ऊपरी सदन में भेजने की भी उस स्थिति में उम्मीद कर सकती है, जब राज्य के दो रिक्त पदों को भरने के लिए भी साथ ही चुनाव होता है। ये दो पद इसलिए रिक्त हुए हैं क्योंकि भारतीय जनता पार्टी के गुजरात से राज्य सभा सदस्य अमित शाह और स्मृति ईरानी अब लोक सभा में आ गए हैं। 

View More

Search

Search by Date

जनमत

वाराणसी से पीएम मोदी लोस चुनाव 2019 जीतेंगे?

Navigation

Follow us

Mailing list

Copyright 2018. All right reserved