Satya Darshan

कमलनाथ, गहलोत और चिंदबरम ने किया पार्टी हित को दरकिनार - राहुल गांधी

नयी दिल्ली | मई 26, 2019

कांग्रेस पार्टी ने शनिवार को अध्यक्ष राहुल गांधी के अध्यक्ष पद से इस्तीफे की पेशकश को नामंजूर कर दिया। हालांकि राहुल ने लोकसभा चुनावों में पार्टी की हार की जिम्मेदारी अपने ऊपर लेते हुए पद से हटने का प्रस्ताव दिया था। 

इस बीच राहुल ने वरिष्ठ नेताओं पर बेहद नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि इन नेताओं ने अपने बेटों के हितों को पार्टी हित से ऊपर रखा। चुनावों में हार के कारणों की समीक्षा के लिए बुलाई गई कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में राहुल गांधी काफी गुस्से में थे। उन्होंने पार्टी के वरिष्ठ नेताओं पर अपने बेटों को टिकट दिलवाने के लिए जोर लगाने का आरोप लगाया। 

राहुल ने यह बात ज्योतिरादित्य सिंधिया की उस टिप्पणी पर कही, जिसमें सिंधिया ने कहा था कि पार्टी को स्थानीय नेताओं को तैयार करना चाहिए। राहुल ने कहा कि कांग्रेस ने उन राज्यों में भी बहुत खराब प्रदर्शन किया है, जहां उनकी सरकार थी। 

उन्होंने आगे कहा कि राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और मध्य प्रदेश के सीएम कमलनाथ ने अपने बेटों को टिकट देने पर जोर दिया हालांकि वह निजी रूप से इसके पक्ष में नहीं थे। 

इस संदर्भ में राहुल ने पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम का भी नाम लिया। इतनी बड़ी हार के बाद काफी गुस्से में नजर आ रहे राहुल ने पार्टी नेताओं पर मुद्दों को लेकर ढिलाई बरतने का भी आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि कैंपेन में उठाए गए मुद्दों को आगे बढ़ाकर बीजेपी और उसके नेता नरेंद्र मोदी के खिलाफ एक मजबूत राय नहीं तैयार की गई। 

सूत्रों ने कहा कि राहुल ने खास तौर पर राफेल डील और चौकीदार चोर है जैसे मुद्दों का नाम लिया।

View More

Search

Search by Date

जनमत

वाराणसी से पीएम मोदी लोस चुनाव 2019 जीतेंगे?

Navigation

Follow us

Mailing list

Copyright 2018. All right reserved