Satya Darshan

भाषण कलाकार मोदी जी नफरत से भरें है, उनका समय अब समाप्त हो गया है- राहुल गांधी

नयी दिल्ली | मई 11, 2019

लोकसभा चुनाव 2019 में छठे चरण की वोटिंग 12 मई को होगी. इसी बीच कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने एनडीटीवी को दिये एक इंटरव्यू में मैनेजिंग एडिटर रवीश कुमार से खास बातचीत में कहा कि वह पीएम मोदी की कम्युनिकेशन स्किल यानी भाषण देने की कला की मुरीद हैं. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि वह नफरत से भरे हुए हैं. 

आरएसएस की ओर इशारा करते हुए राहुल ने कहा कि जो विचारधारा देश में नफरत फैला रही है और संविधान पर आक्रमण कर रही है, हमारी उससे लड़ाई है. कहा कि उनकी विचारधारा है कि इस देश को एक संगठन को चलाना चाहिए, उससे हमारी लड़ाई है. सिर्फ कांग्रेस को नहीं, बल्कि देश की जनता को लगता है कि हमारी लड़ाई आरएसएस-भाजपा से है.

मैं जहां जाता हूं, वहां यह बात सामने आती है. युवा, किसान, मजदूर सभी लोग परेशान हैं.  राहुल गांधी ने कहा कि इस देश में जो भी हुआ है, वह प्यार की भावना की वजह से हुआ है. उन्होंने कहा कि पीएम मोदी से मैं कई निजी कार्यक्रमों में भी मिलता हूं, लेकिन वे ढंग से रिस्पॉन्स नहीं करते हैं. उनका मेरे प्रति व्यक्तिगत विद्वेष है. राहुल गांधी ने कहा कि पांच साल पहले लोग कहते थे कि नरेंद्र मोदी से लड़े कौन, उनसे कांग्रेस लड़ी. यह कोई आसान काम नहीं था, लेकिन हम हर जगह लड़े. संसद से लेकर सड़क तक.

मनमोहन जी से वादा किया था सरकार में नहीं दूंगा दखल

राहुल  ने कहा कि जब हमारी सरकार थी तो मैंने डॉ मनमोहन सिंह जी को वादा किया था कि मैं सरकार में दखल नहीं दूंगा. कांग्रेस अध्यक्ष को भी यही कहा था. मैंने पहले ही आश्वस्त कर दिया था कि मैं कांग्रेस को मजबूत करूंगा, मगर सरकार में काम नहीं करूंगा. उन्होंने कहा कि अब 23 मई को जो जनता तय करेगी कि मेरी भूमिका क्या हो. वही करूंगा. अभी कोई फैसला नहीं लिया है. जब उनके परिवार पर व्यक्तिगत हमले के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि मैं अपने पिता, दादा और दादी की सच्चाई जानता हूं, इसलिए कोई कुछ कहे मुझे उससे कोई फर्क नहीं पड़ता है.

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह द्वारा नामदार के संबोधन पर कहा कि 23 मई को सब तय हो जायेगा. राहुल गांधी ने कहा कि भाजपा न तो अपने वादों की बात करती है और न ही भविष्य की. नरेंद्र मोदी का समय समाप्त हो गया है. मैं चाहता हूं कि जब किसान के घर जाऊं तो उसकी आवाज बनूं. उन्होंने कहा कि 2-3 प्रतिशत लोग सारा फायदा उठा रहे हैं, यह चिंता का विषय है. मैंने मोदी जी से कहा कि आप तीन घंटे सोते हैं, आइये मेरे साथ बहस कर लीजिए, लेकिन वे सामने नहीं आते हैं.

चुनाव आयोग की भूमिका निष्पक्ष नहीं

ईवीएम के मुद्दे पर राहुल गांधी ने कहा कि यह देखना चुनाव आयोग का काम है. हालांकि मुझे चुनाव आयोग की भूमिका निष्पक्ष नहीं लगती है. पीएम कुछ भी बोलते हैं, उसपर कोई कार्रवाई नहीं करता है. राहुल गांधी ने कहा कि इस बार जानबूझ कर चुनाव की तारीखें इस तरीके से तय की गईं कि भाजपा को फायदा हो. 

राहुल गांधी ने कहा कि सैम पित्रोदा ने बिलकुल गलत कहा. मैंने उन्हें कहा कि ऐसा बिलकुल नहीं कहना चाहिए. 1984 के दंगों में जो लोग भी शामिल हैं, उनपर कार्रवाई होनी चाहिए. राहुल गांधी ने कहा कि 1984 के दंगों को लेकर कोई डिबेट नहीं है. वह एक भयंकर ट्रेजडी है. 1984 दंगे में जो भी आरोपी है, उन्हें बुक किया जाना चाहिए.

मीडिया विपक्ष के प्रति फेयर नहीं

राहुल गांधी ने कहा कि पिछले पांच साल में विपक्ष को मीडिया में फेयर स्पेस नहीं मिला.  मीडिया को लेकर एक स्ट्रक्चर बनाने की जरूरत है. राफेल में अगर कानून तोड़ा गया है तो जांच होगी. राफेल मुद्दे को मीडिया उठाता ही नहीं है. प्रेस कॉन्फ्रेंस करके हमने उठाया. फ्रांस के राष्ट्रपति ने कहा, लेकिन सरकार का पूरा दबाव था. लेकिन दबाव के बावजूद कांग्रेस खड़ी रही. राहुल गांधी ने कहा कि मैं सबसे सीखता हूं.

नरेंद्र मोदी और आरएसएस से भी. किसी भी लतीफे और मीम से कोई फर्क नहीं पड़ता है.

राहुल गांधी ने कहा कि हम वैसे काम नहीं करते हैं, जैसे पीएम मोदी करते हैं. अगर कहीं कानून तोड़ा गया है तो कानून अपना काम करेगा.  चार सुप्रीम कोर्ट के जज ने कहा कि हमें अपना काम नहीं करने दिया जा रहा है. हम उसी शक्ति से लड़ रहे हैं जो काम नहीं करने दे रहा है.

View More

Search

Search by Date

जनमत

वाराणसी से पीएम मोदी लोस चुनाव 2019 जीतेंगे?

Navigation

Follow us

Mailing list

Copyright 2018. All right reserved