Satya Darshan

भारत में बंटवारों के शंहशाह मोदी, टाइम के कवर पेज पर पीएम

नयी दिल्ली (एसडी) | मई 10, 2019

अंतर्राष्ट्रीय पत्रिका टाइम का शीर्षक अपने आप में गवाही दे रहा है कि दुनिया में मोदी की छवि कैसी है. भले ही अपने मुंह मिया मिठू बनकर मोदी सरकार का हर नुमाइंदा ये कहे कि मोदी सरकार में हमारी छवि दुनियाभर में बहुत ताकतवर हुई है. लेकिन कड़वा सच अबसब के सामने है. इस लेख में मोदी सरकार में लोगों को बांटने और बंटवारे की राजनीती का गंभीर आरोप लगाया गया है.

View image on Twitter

View image on Twitter

TIME✔@TIME

TIME’s new international cover: Can the world’s largest democracy endure another five years of a Modi government? http://mag.time.com/cKf9Dci 

3,717

3:30 AM - May 10, 2019

3,496 people are talking about this

Twitter Ads info and privacy

 

वैसे टाइम के इस लेख में 1984 के सिख दंगों और 2002 के गुजरात दंगों का भी जिक्र है. लेख में कहा गया है कि हालांकि कांग्रेस पर 1984 के दंगों को लेकर आरोप लगे लेकिन फिर भी इसने दंगों के दौरान उन्मादी भीड़ को खुद से अलग रखा, लेकिन नरेंद्र मोदी 2002 के दंगों के दौरान अपनी चुप्पी से ‘दंगाइयों के लिए दोस्त’ साबित हुए.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कामकाज पर सख्त आलोचनात्मक टिप्पणी करते हुए पत्रिका ने नेहरू के समाजवाद और भारत की मौजूदा सामाजिक परिस्थिति की तुलना की है. इस आलेख में कहा गया है कि नरेंद्र मोदी ने हिन्दू और मुसलमानों के बीच भाईचारे की भावना को बढ़ाने के लिए कोई इच्छा नहीं जताई.

इस आलेख में कहा गया है कि नरेंद्र मोदी ने भारत के महान शख्सियतों पर राजनीतिक हमले किए जैसे कि नेहरू. वह कांग्रेस मुक्त भारत की बात करते हैं, उन्होंने कभी भी हिन्दू-मुसलमानों के बीच भाईचारे की भावना को मजबूत करने के लिए कोई इच्छाशक्ति नहीं दिखाई.

आगे इस लेख में कहा गया है कि नरेंद्र मोदी का सत्ता में आना इस बात को दिखाता है कि भारत में जिस कथित उदार संस्कृति की चर्चा की जाती थी वहां पर दरअसल धार्मिक राष्ट्रवाद, मुसलमानों के खिलाफ भावनाएं और जातिगत कट्टरता पनप रही थी.

इस लेख में लिंचिंग और गाय के नाम पर हुई हिंसा का भी जिक्र किया गया है. कहा है कि गाय को लेकर मुसलमानों पर बार-बार हमले हुए और उन्हें मारा गया. एक भी ऐसा महीना न गुजरा हो जब लोगों के स्मार्टफोन पर वो तस्वीरें न आई जिसमें गुस्साई हिन्दू भीड़ एक मुस्लिम को पीट न रही हो. लेख में कहा गया है कि 2017 में उत्तर प्रदेश में जब बीजेपी चुनाव जीती तो भगवा पहनने वाले और नफरत फैलाने वाले एक महंत को सीएम बना दिया.

View More

Search

Search by Date

जनमत

वाराणसी से पीएम मोदी लोस चुनाव 2019 जीतेंगे?

Navigation

Follow us

Mailing list

Copyright 2018. All right reserved