Satya Darshan

नकदीसंकट से जूझते एयर इंडिया ने खड़े किए अपने बीस विमान, मरम्मत का भी पैसा नहीं

नयी दिल्ली | मई 2, 2019

सार्वजनिक क्षेत्र की प्रमुख विमानन कंपनी एयर इंडिया को अपने 127 विमानों के बेड़े में मजबूरन 20 विमानों का परिचालन बंद करना पड़ा है क्योंकि उसके पास इन विमानों के इंजन को बदलने के लिए रकम की कमी है। इनमें वाइड बॉडी वाले विमान शामिल हैं। 

एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी। अधिकारी ने कहा कि कर्ज में डूबी एयर इंडिया सरकार से मिल रही मदद से चल रही है। उसे इन विमानों के इंजन के लिए कम-से-कम 1,500 करोड़ रुपये की जरूरत है। फिलहाल कहीं से रकम मिलने की उम्मीद नहीं है, लिहाजा इन विमानों के जल्दी उड़ान भरने की संभावना कम है। घाटे में चल रही एयरलाइन के बेड़े में 127 विमान हैं। इसमें 45 बड़े विमान (27 बी-787 और 18 बी-777) हैं। 
 
अधिकारी ने कहा, हमारे 20 विमान इंजन संबंधी मसलों के कारण पिछले कुछ महीनों से परिचालन से बाहर हैं। इसका मतलब है कि हमारा कुल बड़े विमानों का 16 फीसदी परिचालन से बाहर है। इन विमानों में नए इंजन लगने हैं और इसके लिए करीब 1,500 करोड़ रुपये की जरूरत होगी। उन्होंने कहा कि इन विमानों में 14 ए 3230, चार बी-787-800 (ड्रीमलाइनर) और बाकी दो बी-777 हैं। 

अधिकारी ने कहा कि एयरलाइन पिछले साल से नए इंजन के साथ उन विमानों को परिचालन में लाने की कोशिश कर रही है, लेकिन रकम की कमी के कारण अक्टूबर से पहले इन विमानों के उड़ान भरने की संभावना कम है। उल्लेखनीय है कि पिछले साल अगस्त में कंपनी के पायलटों के एक संगठन आईसीपीए (इंडियन कॉमर्शियल पायलट एसोसिएशन) ने आरोप लगाया था कि कंपनी के 19 विमान कलपुर्जों के अभाव में परिचालन से बाहर हैं। इससे एयरलाइन को नुकसान हो रहा है। 

हालांकि तत्कालीन चेयरमैन प्रदीप सिंह खरोला ने कहा था कि यह नियमित रखरखाव के मकसद से ये विमान उड़ान नहीं भर रहे। खरोला अब विमानन सचिव हैं।  

अधिकारी ने यह भी कहा कि कंपनी जेट एयरवेज के 200 चालक दल सदस्यों को नियुक्त करने की योजना बना रही है। लेकिन पूर्व की योजना के अनुसार बी-777 विमानों को पट्टे पर देने के लिए संभवत: कदम नहीं उठाएगी। 

View More

Search

Search by Date

जनमत

वाराणसी से पीएम मोदी लोस चुनाव 2019 जीतेंगे?

Navigation

Follow us

Mailing list

Copyright 2018. All right reserved