Satya Darshan

'हिंद स्वराज' से : सभ्यता का दर्शन

गांधी दर्शन | अप्रैल 28, 2019

गतांक से आगे...

पाठक : अब तो आपको सभ्‍यता की भी बात करनी होगी। आपके हिसाब से तो यह सभ्यता बिगाड़ करने वाली है।

संपादक : मेरे हिसाब से ही नहीं, बल्कि अंग्रेज लेखकों के हिसाब से भी यह सभ्‍यता बिगाड़ करने वाली है। उसके बारे में बहुत किताबें लिखी गई हैं। वहाँ इस सभ्‍यता के खिलाफ मंडल भी कायम हो रहे हैं। एक लेखक ने 'सभ्‍यता, उसके कारण और उसकी दवा' नाम की किताब लिखी है। उसमें उसने यह साबित किया है कि यह सभ्‍यता एक तरह का रोग है।

पाठक : यह सब हम क्‍यों नहीं जानते?

संपादक : इसका कारण तो साफ है। कोई भी आदमी अपने खिलाफ जाने वाली बात करे ऐसा शायद ही होता है। आज की सभ्‍यता के मोह में फँसे हुए लोग उसके खिलाफ नहीं लिखेंगे, उलटे उसको सहारा मिले ऐसी ही बातें और दलीले ढूँढ़ निकालेंगे। यह वे जान-बूझकर करते हैं ऐसा भी नहीं है। वे जो लिखते हैं उसे खुद सच मानते हैं। नींद में जो आदमी सपना देखता है, उसे वह सही मानता है। जब उसकी नींद खुलती है तभी उसे अपनी गलती मालूम होती है। ऐसी दशा में सभ्‍यता के मोह में फँसे हुए आदमी की होती है। हम जो बाते पढ़ते हैं वे सभ्‍यता की हिमायत करने वालों की लिखी बातें होती हैं। उनमें बहुत होशियार और भले आदमी उसमें फँसता जाता है।

पाठक : यह बात आपने ठीक कही। अब आपने जो कुछ पढ़ा और सोचा है, उसका ख्याल मुझे दीजिए।

संपादक : पहले तो हम यह सोचे कि सभ्‍यता किस हालत का नाम है। इस सभ्‍यता की सही पहचान तो यह है कि लोग बाहरी (दुनिया) की खोजों में और शरीर के सुख में धन्‍यता-सार्थकता और पुरुषार्थ मानते हैं। इसकी कुछ मिसालें लें। सौ साल पहले यूरोप के लोग जैसे घरों में रहते थे उनसे ज्‍यादा अच्‍छे घरों में आज वे रहते हैं; यह सभ्‍यता की निशानी मानी जाती है। इसमें शरीर के सुख की बात है। इसके पहले लोग चमड़े के कपड़े पहनते थे और भालों का इस्‍तेमाल करते थे। अब वे लंबे पतलून पहनते हैं और शरीर को सजाने के लिए तरह-तरह के कपड़े बनवाते हैं; और भाले के बदले एक के बाद एक पाँच गोलियाँ छोड़ सके ऐसी चक्‍कर वाली बंदूक इस्‍तेमाल करते हैं। यह सभ्‍यता की निशानी है।

किसी मुल्‍क के लोग, जो जूते वगैरा नहीं पहनते हों, जब यूरोप के कपड़े पहनना सीखते हैं, तो जंगली हालत में से सभ्‍य हालत में आए हुए माने जाते हैं। पहले यूरोप में लोग मामूली हल की मदद से अपने लिए जात-मेहनत करके जमीन जोतते थे। उनकी जगह आज भाप के यंत्रों से हल चलाकर एक आदमी बहुत सारी जमीन जोत सकता है और बहुत-सा पैसा जमा कर सकता है। यह सभ्‍यता की निशानी मानी जाती है। पहले लोग कुछ ही किताबें लिखते थे और वे अनमोल मानी जाती थीं। आज हर कोई चाहे जो लिखता है और छपवाता है और लोगों के मन को भरमाता है। यह सभ्‍यता की निशानी है।

पहले लोग बैलगाड़ी से रोज बारह कोस की मंजिल तय करते थे। आज रेलगाड़ी से चार सौ कोस की मंजिल मारते हैं। यह तो सभ्‍यता की चोटी मानी गई है। यह सभ्‍यता जैसे-जैसे आगे पढ़ती जाती है वैसे-वैसे यह सोचा जाता है कि लोग हवाई जहाज से सफर करेंगे और थोड़े ही घंटों में दुनिया के किसी भी भाग में जा पहुँचेंगे। लोगों को हाथ पैर हिलाने की जरूरत नहीं रहेगी। एक बटन दबाया कि आदमी के सामने पहनने की पोशाक हाजिर हो जाएगी, दूसरा बटन दबाया कि उसे अखबार मिल जाएँगे, तीसरा दबाया कि उसके लिए गाड़ी तैयार हो जाएगी; हर हमेशा नए भोजन मिलेंगा, हाथ-पैर का काम ही नहीं पड़ेगा, सारा काम कल से ही किया जाएगा।

पहले जब लोग लड़ना चाहते थे तो एक-दूसरे का शरीर-बल आजमाते थे। आज तो तोप के एक गोले से हजारों जानें ली जा सकती हैं। यह सभ्‍यता की निशानी है। पहले लोग खुली हवा में अपने को ठीक लगे उतना काम स्‍वतंत्रता से करते थे। अब हजारों आदमी अपने गुजारे के लिए इकठ्ठा होकर बड़े कारखानों में या खानों में काम करते हैं। उनकी हालत जानवर से भी बदतर हो गई है। उन्हें सीसे वगैरा के कारखानों में जाने को जोखिम में डालकर काम करना पड़ता है। इसका लाभ पैसेदार लोगों को मिलता है। पहले लोगों को मार-पीटकर गुलाम बनाया जाता था; आज लोगों को पैसे का और भोग का लालच देकर गुलाम बनाया जाता है। पहले जैसे रोग नहीं थे वैसे रोग आज लोगों में पैदा हो गए हैं और उनके साथ डॉक्‍टर खोज करने लगे हैं कि ये रोग कैसे मिटाए जाए। ऐसा करने से अस्‍पताल बढ़े हैं। यह सभ्‍यता की निशानी मानी जाती है।

पहले लोग पत्र लिखते थे तब खास कासिद उसे ले जाता था और उसके लिए काफी खर्च लगाता था। आज मुझे किसी को गालियाँ देने के लिए पत्र लिखना हो, तो एक पैसे में मैं गालियाँ दे सकता हूँ। किसी को मुझे मुबारकबाद देना हो तो भी मैं उसी दाम में पत्र भेज सकता हूँ। सभ्‍यता की निशानी है। पहले लोग दो या तीन बार खाते थे और वह भी खुद हाथों से पकाई हुई रोटी और थोड़ी तरकारी। अब तो हर दो घंटे पर खाना चाहिए, और वह यहाँ तक कि लोगों को खाने से फुरसत ही नहीं मिलती। और कितना कहूँ? यह सब आप किसी भी पुस्‍तक में पढ़ सकते हैं। ये सब सभ्‍यता की सच्‍ची निशानियाँ मानी जाती हैं।

और अगर कोई भी इससे भिन्‍न बात समझाए, तो वह भोला है ऐसा निश्‍चय ही मानिए। सभ्‍यता तो जो मैंने बताई वही मानी जाती है। उसमें नीति या धर्म की बात ही नहीं है। सभ्‍यता के हिमायती साफ कहते हैं कि उनका काम लोगों को धर्म सिखाने का है। धर्म तो ढोंग है, ऐसा कुछ लोग मानते हैं। और कुछ लोग धर्म का दंभ करते हैं, नीति की बातें भी करते हैं।

फिर भी मैं आपसे बीस बरस के अनुभव के बाद कहता हूँ कि नीति के नाम से अनीति सिखलाई जाती है। ऊपर की बातों में नीति हो ही नहीं सकती, यह कोई बच्‍चा भी समझ सकता है। शरीर का सुख कैसे मिले, यही आज की सभ्‍यता ढूँढ़ती है; और यही देने की वह कोशिश करती है। परंतु वह सुख भी नहीं मिल पाता।

यह सभ्‍यता तो अधर्म है और यह यूरोप में इतने दरजे तक फैल गई है कि वहाँ के लोग आधे पागल जैसे देखने में आते हैं। उनमें सच्‍ची कु़बत नहीं है; वे नशा करके अपनी ताकत कायम रखते हैं। एकांत में वे बैठ ही नहीं सकते। जो स्‍त्रियाँ घर की रानी होनी चाहिए, उन्हें गलियों में भटकना पड़ता है, या कोई मजदूरी करनी पड़ती है। इंग्‍लैंड में ही चालीस लाख गरीब औरतों का पेट के लिए सख्‍त मजदूरी करनी पड़ती है, और आजकल इसके कारण 'सफ्रेजेट' का आंदोलन चल रही है।

यह सभ्‍यता ऐसी है कि अगर हम धीरज धर कर बैठे रहेंगे, तो सभ्यता की चपेट में आए हुए लोग खुद की जलाई हुई आग में जल मरेंगे। पैगंबर मोहम्‍मद साहब की सीख के मुताबिक यह शैतानी सभ्‍यता है। हिंदू धर्म इसे निरा 'कलजुग' कहता है। मैं आपके सामने इस सभ्‍यता का हूबहू चित्र नहीं खींच सकता। यह मेरी शक्ति के बाहर है। लेकिन आप समझ सकेंगे कि इस सभ्‍यता के कारण अंग्रेज प्रजा में सड़न ने घर कर लिया है। यह सभ्‍यता दूसरों का नाश करने वाली और खुद नाशवान है। इससे दूर रहना चाहिए और इसीलिए ब्रिटिश और दूसरी पार्लियामेंट बेकार हो गई हैं। ब्रिटिश पार्लियामेंट अंग्रेज प्रजा की गुलामी की निशानी है, यह पक्‍की बात है। आप पढ़ेंगे और सोचेंगे तो आपको भी ऐसा ही लगेगा।

इसमें आप अंग्रेजों का दोष न निकालें। उन पर तो हमें दया आनी चाहिए। वे काबिल प्रजा हैं इसलिए किसी दिन उस जाल से निकल जाएँगे ऐसा मैं मानता हूँ। वे साहसी और मेहनती हैं। मूल में उनके विचार अनीति भरे नहीं हैं, इसलिए उनके बारे में मेरे मन में उत्‍तम ख्याल ही है। उनका दिल बुरा नहीं है। यह सभ्‍यता उनके लिए कोई अमिट रोग नहीं है। लेकिन अभी वे उस रोग में फँसे हुए हैं, यह तो हमें भूलना ही नहीं चाहिए।

क्रमशः

View More

Search

Search by Date

जनमत

वाराणसी से पीएम मोदी लोस चुनाव 2019 जीतेंगे?

Navigation

Follow us

Mailing list

Copyright 2018. All right reserved