Satya Darshan

वाराणसी की चंधासी कोयला मंडी : सफेद कागज पर पकड़ाया कोयले का काला कारोबार

वाराणसी (बीएस) | अप्रैल 23, 2019

पूर्वांचल की सबसे बड़ी कोयला मंडी चंदासी में फर्जीवाड़े का खुलासा हुआ है। यहां सफेद कागज पर कोयले का काला कारोबार का भंडाफोड़ हुआ है। वाणिज्य कर विभाग या संबंधित विभाग को कोयले की कालाबाजारी की सूचना नहीं हो ऐसा मुमकिन नहीं लगता है।

विभाग की लापरवाही का फायदा कोयला कारोबारी तथा माफिया उठाते रहे जिससे कभी भी किसी भी ट्रक की जांच नहीं हुई। चंदासी मंडी में बिहार, झारखंड, मध्य प्रदेश, पश्चिम बंगाल आदि प्रदेशों से कोयला आता है। फिर यहां से चालान बनाकर उत्तर प्रदेश के विभिन्न जिलों में भेजा जाता है। 

वाणिज्य कर विभाग के विशेष अनुसंधान शाखा (एसआईबी) ने पिछले दिनों यहां सघन जांच अभियान चलाया। जांच में 21 फर्जी कंपनियां पकड़ी गई। यह कंपनियां सफेद कागज पर कोयले का काला कारोबार कर रही थी। कागज पर चंदासी मंडी का नाम व पता तो था लेकिन मौके पर वह अस्तित्व में नहीं मिला।  

अधिकारियों के के अनुसार फर्जी कंपनियों के पीछे कई सफेदपोश लोग हो सकते हैं। हालांकि विभाग इनके नाम बताने से परहेज कर रहा है। कई राज्यों की सीमा के पास होने के कारण चंदासी मंडी काले कारोबार का बड़ा नेटवर्क माना जा रहा है।

वाणिज्य कर विभाग के अपर आयुक्त (ग्रेड-2) एवं संयुक्त निदेशक (एसआईबी) ने बताया कि जीएसटी के तहत तमाम प्रतिष्ठानों का पंजीयन ऑनलाइन किया जा रहा है। व्यापारी अपनी सुविधानुसार सही एवं जरूरी दस्तावेज से खुद ही ऑनलाइन जमा कर अपने प्रतिष्ठान का पंजीयन करा सकते हैं।

पहले पूरी जांच के बाद ही फर्म का पंजीयन होता था, जिसको लेकर आए दिन लोगों की शिकायत आती थी। इसे ध्यान में रखते हुए सरकार ने यह छूट दी थी। इसका लाभ उठाते हुए कंपनियां पंजीयन करा रही हैं और इसकी बाद में जांच हो रही है।

वाणिज्य कर विभाग के अधिकारियों ने बताया कि कुछ कंपनियों ने कोयले के कारोबार के लिए अपने प्रतिष्ठान के नाम से पंजीयन कराया था। जब इसकी जांच हुई तो मौके पर 21 कंपनियों का अस्तित्व नहीं मिला

View More

Search

Search by Date

जनमत

वाराणसी से पीएम मोदी लोस चुनाव 2019 जीतेंगे?

Navigation

Follow us

Mailing list

Copyright 2018. All right reserved